वाशिंगटन, एजेंसियां। ब्रिटेन में एक नए तरह के कोरोना वायरस (स्ट्रेन) के सामने आने के बाद दुनिया भर में चिंता बढ़ गई है। ब्रिटेन में एक दिन में रिकॉर्ड मामले भी मिले हैं। वहीं, यूरोप के कई देशों ने ब्रिटेन के साथ विमानों की आवाजाही पर रोक लगा दी है। क्रिसमस के लिए दी गई ढील को भी खत्म कर दिया गया है और रविवार से एक बार फिर सख्त लॉकडाउन लगा दिया गया है।

डब्ल्यूएचओ ने मांगी विस्‍तृत जानकारी 

इस बीच, विश्व स्वास्थ्य संगटन (डब्ल्यूएचओ) ने ब्रिटेन से नए स्ट्रेन पर विस्तृत जानकारी मांगी है और लोगों से सतर्क रहने को कहा है। डब्ल्यूएचओ ने यह भी कहा है कि कोरोना के नए स्ट्रेन से संबंधित जानकारी को सदस्य देशों के साथ साझा किया जाएगा। वहीं ब्रिटेन में प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने क्रिसमस को लेकर पांच दिन के लिए दी जाने वाली राहत को अब स्थगित कर दिया है। 

कई महीनों तक रह सकता है लॉकडाउन 

ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री मैट हैनकॉक ने कहा कि लंदन में कई महीनों तक लॉकडाउन जारी रह सकता है। ब्रिटेन में कोरोना के एक नए वायरस के सामने आने के बाद लंदन समेत दक्षिणी इंग्लैंड में तेजी से संक्रमण फैल रहा है। इसको देखते हुए एक बार फिर सख्त लॉकडाउन लगा दिया गया है। रविवार को 35,928 नए केस मिले, महामारी शुरू होने के बाद एक दिन में सामने आए नए मामलों की यह सबसे बड़ी संख्या है। 

इन देशों ने विमानों की आवाजाही रोकी 

ब्रिटेन में कोरोना की नई स्‍ट्रेन के सामने आने के बाद बीते 24 घंटे में 326 लोगों की मौत हुई है। शनिवार को रिकॉर्ड 534 लोगों की मौत हुई थी। फ्रांस, जर्मनी, नीदरलैंड, बेल्जियम, ऑस्ट्र‍िया और इटली ने ब्रिटेन से विमानों की आवाजाही पर रोक लगा दी है। अपने नागरिकों को ब्रिटेन की यात्रा भी नहीं करने की सलाह दी है। जर्मनी ने दक्षिण अफ्रीका से भी लोगों की आवाजाही पर पाबंदी लगाने का एलान किया है। 

70 फीसद ज्‍यादा तेजी से फैलता है यह वायरस 

जॉनसन ने श्रेणी-4 के सख्त प्रतिबंधों को लागू करते हुए कहा कि ऐसा लग रहा है कि कोरोना का नया रूप सामने आया है जो पहले के मुकाबले 70 फीसद ज्‍यादा तेजी से फैलता है। नीदरलैंड ने कहा कि वह कोरोना की नए स्ट्रेन को आने से रोकने के लिए यूरोपीय संघ के अन्य देशों के साथ चर्चा करेगा। यूरोपीय संघ के सदस्य तीनों देशों की सरकारों ने कहा कि ब्रिटेन के उठाए गए सख्त कदम को देखते हुए बड़ा फैसला ले रही हैं। 

छानबीन में जुटे वैज्ञानिक 

यह नया वायरस इंग्लैंड के दक्षिण-पूर्व इलाकों में काफी तेजी से फैल रहा है। इस वायरस में स्पाइक प्रोटीन में परिवर्तन शामिल हैं। वैज्ञानिक पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि हाल में ही मरीजों में वृद्धि कहीं इसी नए प्रकार से तो नहीं हुई है। वायरस के इस नए प्रकार को ब्रिटिश विज्ञानियों ने 'वीयूआइ 202012/01' नाम दिया है। जॉनसन ने कहा है कि यह वायरस कितना घातक है और इसपर टीका कितना प्रभावी होगा... इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। 

अमेरिका में हालात बेकाबू 

वहीं दूसरी ओर कोरोना के कारण अमेरिका में हालात बेकाबू हो गए हैं। यहां पिछले 24 घंटे में सभी पुराने रिकॉर्ड टूट गए और चार लाख नए मामले एक दिन में सामने आए हैं। अमेरिका की स्वास्थ्य एजेंसी के अनुसार रविवार को एक दिन में ही चार लाख से ज्यादा नए मरीज सामने आए और पौने तीन हजार से ज्यादा मरीजों की मौत हो गई। इससे पहले नए मरीजों की संख्या औसतन ढाई लाख थी। 

अमेरिका में 3,15,000 मौतें 

अमेरिका में सक्रिय मरीजों की संख्या एक करोड़ 76 लाख से ज्यादा हो गई है। मरने वालों का आंकड़ा भी तीन लाख 15 हजार पहुंच गया है। मॉडर्ना इंक ने कहा है कि अमेरिका ने 18 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीन दिए जाने की मंजूरी दे दी है। थाइलैंड में रात के दस बजे से सुबह पांच बजे तक कर्फ्यू लगाया गया है। आस्ट्रेलिया के सिडनी में कोरोना के मरीज बढ़ने के कारण देश के अन्य शहरों से आवाजाही बंद कर दी गई है। 

नेतन्याहू ने ली कोरोना वैक्सीन 

इजरायल में सबसे पहली वैक्सीन प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने ली। इसका सीधा प्रसारण टीवी पर दिखाया गया। प्रधानमंत्री के साथ स्वास्थ्य मंत्री यूली एडल्सटेन ने भी वैक्सीन की खुराक ली। रविवार से इजरायल में वैक्सीन का काम शुरू कर दिया गया है। यहां पहले मेडिकल स्टाफ और बुजुर्गो को वैक्सीन की खुराक दी जा रही है।  

Edited By: Krishna Bihari Singh