न्यूयॉर्क, एजेंसी। अमेरिका ने प्रख्यात लेखक सलमान रुश्दे पर न्यूयॉर्क में हुए जानलेवा हमले की निंदा की है। अमेरिकी राष्ट्रपति के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलविन ने घटना को डरावना और निंदनीय बताया है। सुलविन ने कहा कि आज देश और दुनिया ने लेखक सलमान रुश्दी के खिलाफ एक निंदनीय जानलेवा हमला देखा। हिंसा का यह कृत्य भयावह है। शनिवार को न्यूयॉर्क में भाषण देने से पहले मंच पर जेक सुलविन ने बुकर पुरस्कार से सम्मानिक लेखक सलमान रुश्दी पर हमला का जिक्र करते हुए यह बातें कही।

अमेरिकी राष्ट्रपति के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार सुलविन ने कहा कि बाइडन-हैरिस प्रशासन के सभी लोग सलमान रुश्दे की जल्दी ठीक होने की प्रार्थना कर रहे हैं। सुलविन ने अपने भाषण में उन लोगों का धन्यवाद किया जिन्होंने रुश्दे पर हमले के बाद तत्परता दिखाई और अस्पताल ले गए। सुलविन ने कहा, हमले के तुरंत बाद रुश्दी की मदद करने के लिए वहां पर मौजूद सभी नागरिकों और उत्तरदाताओं के हम आभारी हैं। 

रुश्दी के आंख की रौशनी जाने का खतरा

शुक्रवार को न्यूयॉर्क में एक कार्यक्रम में व्याख्यान देने के दौरान प्रसिद्ध लेखक सलमान रुश्दे पर एक व्यक्ति ने चाकू से हमला कर दिया। घटना के बाद से लेखक की स्थिति गंभीर बनी हुई है। वह वेंटिलेटर पर हैं। डॉक्टरों ने सलमान रुश्दी के एक आंख की रौशनी जाने की आशंका जताई है। 

किताब को लेकर सालों से विवाद

मुंबई में एक भारतीय कश्मीरी मुस्लिम परिवार में जन्में सलमान रुश्दी को उनकी पुस्तक ‘मिडनाइट्स चिल्ड्रन’ के लिए प्रतिष्ठित बुकर पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। साल 1988 में लिखी अपनी किताब 'सैटेनिक वर्सेज' को लेकर सलमान रुश्दी विवादों में रहे हैं। सलमान रुश्दी पर इस किताब में पैगंबर की बेअदबी के आरोप लगे थे। 1989 में ईरान की इस्लामिक क्रांति के नेता अयातुल्ला खुमैनी ने रुश्दी के खिलाफ मौत का फतवा जारी कर दिया था। इस फतवे के जारी होने के 33 साल बाद शुक्रवार को अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में सलमान रुश्दी पर जानलेवा हमला हुआ है।

Edited By: Aditi Choudhary