नई दिल्ली, न्यूयॉर्क टाइम्स न्यूज सर्विस। चीन की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही है। अब अमेरिका ने चीन के खिलाफ एक और सबूत जमा किया है। अमेरिका ने चीन से भेजे गए कुछ ऐसे रहस्यमयी बीजों की पहचान की है जो उसके यहां से कभी ऑर्डर ही नहीं किए गए मगर चीन ने उसे अमेरिका में तमाम राज्यों में लोगों के घरों में पहुंचा दिया है। 

ऑर्डर किए बिना मिले बीजों के पैकेट 

इसमें सजावटी फल और सब्जी, जड़ी बूटी और अन्य प्रजातियों के पैकेट शामिल हैं। इन पैकेटों के मिलने के बाद अमेरिका के तमाम राज्यों के लोगों के मन में एक अलग तरह का भय व्याप्त हो गया है। बीते माह तमाम शहरों के नागरिकों ने रिपोर्ट की थी कि उन्होंने जब कभी बीजों के पैकेट के लिए ऑर्डर ही नहीं किया मगर वो उनको अब मिल रहे हैं। एक संघीय एजेंसी ने कहा कि उसने 14 प्रकार के पौधों की पहचान की जो कि चीन से भेजे गए बीजों के अनचाहे पैकेटों से पहचाने जा रहे हैं। 

22 राज्यों में पहुंच चुके पैकेट 

अमेरिका के सभी सभी 50 राज्यों में इस तरह के अवांछित पैकेटों के बारे में चेतावनी जारी की गई। पता चला कि कम से कम 22 राज्यों में ये पैकेट पहुंच चुके हैं। अर्कांसस के बोओनविले के डॉयल क्रैंशव ने कहा कि उन्हें जो कुछ भी मिला, उसमें से कुछ अनचाहे बीज थे। उन्होंने कहा कि मैंने अपनी पत्नी से कहा जो पैकेट मिला था उसमें किसी भी फूल के बीज की तरह नहीं दिखते। 

बीजों के साथ भेजे गए एक्स्ट्रा पैकेट 

क्रेंशॉ ने कहा कि उन्होंने अमेजन से नीले ज़िननिया बीज का ऑर्डर दिया था, लेकिन जब उन्हें लगभग दो महीने पहले पैकेट मिला तो इसमें नीले जिननिया के बीज के साथ-साथ बीज के एक्स्ट्रा पैकेट भी थे, जो उन्होंने ऑर्डर नहीं किए। उन्होंने कहा कि पैकेट लेबल "जड़ी बालियां" और "चीन" लिखा हुआ था। उन्होंने कहा कि जो पैकेट मिला था, वो अवांछित बीजों से भरा हुआ था। इसके बारे में जब अमेजन के कस्टमर केयर सेंटर में फोन करके वापस लेने के लिए कहा गया था मगर अमेजन का कोई प्रतिनिधि रविवार तक नहीं पहुंचा था।

क्रैंशव ने कहा कि उन्होंने अर्कांसस कृषि विभाग के अधिकारियों को इस सप्ताह आने के लिए कहा था, ताकि अनचाहे बीज से उगने वाले पौधे को खोदा जा सके और पता लगाया जा सके कि ये बीज किस तरह के हैं। उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें बिना ऑर्डर के जो पैकेट मिला था, उसे उन्होंने खोला नहीं। 

किसी बड़े घोटाले की ओर इशारा 

इन पैकेजों को प्राप्त करने के बाद उन्होंने कहा कि वह और उनकी पत्नी अब से स्थानीय स्तर पर बीज का ऑर्डर करेंगे। संघीय निरीक्षण एजेंसी ने कहा कि जो पैकेट मिले हैं वो ये बता रहे हैं कि ये किसी बड़े घोटाले का हिस्सा है। इसमें एक बात ये भी हो सकती है कि इन बीजों का कारोबार करने वाले ने अपनी बिक्री बढ़ाने की उम्मीद में ये अवांछित आइटम भेजे हों।  

पेन गवर्नमेंट यूनिवर्सिटी के एक प्लांट साइंस रिसर्चर ने कहा कि हो सकता है कि चीन ने ये पैकेट किसी जैविक युद्ध के तहत अमेरिका में सप्लाई करवाए हों। इन बीजों को लगाने से खतरा हो सकता है। मैसाचुसेट्स में सलेम स्टेट यूनिवर्सिटी में जीव विज्ञान की एक प्रोफेसर लिसा डेलिसियो ने कहा कि यदि कोई अज्ञात बीज आक्रामक प्रजाति का निकला, तो वे देशी पौधों को विस्थापित कर सकते हैं। इसके अलावा अन्य समस्याएं भी पैदा कर सकते हैं और पर्यावरण, कृषि या मानव स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

लोगों ने फोन करके की शिकायत 

न्यूयॉर्क के इथाका में कॉर्नेल विश्वविद्यालय में प्राकृतिक संसाधनों के विभाग में एक प्रोफेसर, बर्नड ब्लॉसी ने कहा कि उन्हें कुछ ऐसे फोन काल भी मिले हैं जिसमें लोगों ने बीज के पैकेट मिलने के बाद चिंता जाहिर की। लोग इस बात को लेकर खासे चिंतित है कि उन्हें जो पैकेट मिले हैं उनकी अब तक पहचान नहीं हो पाई है।

वैज्ञानिकों का कहना है कि यदि ऐसी चीजें लोगों को मिली हैं तो वो उसे जला दे या उन्हें कूड़े में फेंक दें। वैज्ञानिकों का कहना है कि कौन जानता है कि इसके पीछे कौन है या इसके पीछे क्या है? हो सकता है कि ये कुछ लोगों की साजिश का एक हिस्सा हो, इसके पीछे कहानी कुछ और हो जिससे पर्दा उठना बाकी है। 

ये भी पढ़ें:- कोरोनावायरस को रोकने के लिए Kim Jong Un का नया फरमान, पहले करें प्रतिज्ञा फिर निकलें बाहर 

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस