वाशिंगटन, प्रेट्र। अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में भारतीय-अमेरिकी समुदाय के मतदाता किधर जाएंगे? रिपब्लिकन पार्टी के एक आंतरिक सर्वे के मुताबिक 12 कारणों से राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को इस समुदाय का भारी समर्थन मिल रहा है। सबसे बड़ा कारण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से ट्रंप की दोस्ती है। यह सर्वे 'ट्रंप विक्ट्री इंडियन अमेरिकन फाइनेंस कमेटी' के सह-अध्यक्ष अल मेसन ने कराया है। 

मोदी और ट्रंप की दोस्ती समर्थन का सबसे बड़ा कारण

सर्वे के मुताबिक, ट्रंप भारतीय-अमेरिकी समुदाय का बहुत आदर करते हैं। मोदी के साथ उनकी दोस्ती ने ट्रंप को इस समुदाय में काफी लोकप्रिय बनाया है। अमेरिका के पुराने रुख को छोड़कर ट्रंप कश्मीर जैसे भारत के अंदरुनी मामलों से दूर रहते हैं। भारतीय समुदाय को यकीन है कि ट्रंप-मोदी की एकजुटता से अगले चार साल में चीन को करारा जवाब दिया जा सकेगा। इसके अलावा, चीन के प्रति ट्रंप का कठोर रवैया, देश को युद्ध में झोंकने की बजाय शांति के लिए पहल करना, कोरोना महामारी से पहले अर्थव्यवस्था को बेहतर बनाने के कारण भी ट्रंप को इस समुदाय का भारी समर्थन मिल रहा है। 

डर यह भी कि ट्रंप हट गए तो भारत पर हमला कर देगा चीन

विश्व मंच पर अमेरिका-भारत के बीच मजबूत साझेदारी ने भी भारतीय समुदाय का ट्रंप पर भरोसा बढ़ाया है। भारतीय चाहते हैं कि अमेरिका भारत का सम्मान करे और चीन के खिलाफ भारत का साथ दे और यह ट्रंप ही कर सकते हैं। भारतीयों को लगता है कि ट्रंप हट गए तो भारत के खिलाफ चीन युद्ध छेड़ सकता है। सर्वे के मुताबिक, यही वो कारण हैं, जिसके चलते परंपरागत रूप से डेमोक्रेटिक पार्टी को वोट देने वाले मतदाता बड़ी संख्या में इस बार ट्रंप को साथ देने जा रहे हैं। इससे कांटे की लड़ाई वाले प्रांतों में ट्रंप अपने प्रतिद्वंद्वी पर भारी पड़ेंगे।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस