वाशिंगटन, पीटीआइ। गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई ने नस्लवाद के खिलाफ लड़ाई में 3.7 करोड़ डॉलर का योगदान देने की घोषणा की है। उन्होंने यह घोषणा ऐसे समय की है जब अफ्रीकी-अमेरिकी जॉर्ज फ्लॉयड की हिरासत में हुई मौत को लेकर पूरे अमेरिका में विरोध प्रदर्शन जारी हैं।

सभी कर्मचारियों को बुधवार को भेजे ईमेल में गूगल और अल्फाबेट के भारतीय-अमेरिकी सीईओ ने सभी से अनुरोध किया कि वे 'मारे गए अश्वेत लोगों की याद और सम्मान में 8 मिनट 46 सेकेंड का मौन रखें और एकजुटता प्रदर्शित करें।' मौन की अवधि के बारे में पिचाई ने कहा, जॉर्ज फ्लॉयड मरने से पहले इतनी ही देर तक सांस लेने के लिए तड़पता रहा था। यह फ्लॉयड और अन्य लोगों के साथ हुए अन्याय की याद दिलाता रहेगा।

पिचाई ने कहा कि नस्ली असमानता के खिलाफ लड़ रही संस्थाओं की मदद के लिए 1.2 करोड़ डॉलर दिए जाएंगे जबकि 2.5 करोड़ डॉलर की राशि अनुदान के रूप में होगी ताकि नस्ली अन्याय के खिलाफ लड़ रही संस्थाओं की मदद हो सके और उन्हें महत्वपूर्ण सूचनाएं मिल सकें।

सीईओ ने मेल में लिखा है, 'हमारे समाज के अश्वेत लोग तकलीफ में हैं। हमारे बीच से कई लोग अपनी भावनाओं के आधार पर उनके साथ खड़े होने और जिनसे हम प्यार करते हैं उनके साथ एकजुटता दिखाने के रास्ते तलाश रहे हैं। मंगलवार को मैंने हमारे अश्वेत नेताओं के एक समूह से बातचीत की, यह जानना चाहा कि यहां से आगे का रास्ता क्या होगा और गूगल इसमें कैसे मदद कर सकता है। हमने कई विचारों पर चर्चा की और हम रास्ता निकाल रहे हैं कि आखिर आने वाले हफ्तों, महीनों और भविष्य में अपनी ऊर्जा कहां लगाएं।'

वहीं अमेरिका में जार्ज फ्लॉयड की मौत को लेकर लोगों का गुस्सा शांत होने का नाम नहीं ले रहा है। लगातार नौवें दिन विरोध-प्रदर्शन और हिंसा का दौर जारी रहा। न्यूयॉर्क शहर में दो पुलिस अधिकारियों को गोली और एक को चाकू मारने की खबर है। राजधानी वाशिंगटन में ह्वाइट हाउस के समीप हजारों प्रदर्शनकारी जमा हुए और मोबाइल फोन की लाइट जलाने के साथ ही पुलिस विरोधी नारे भी लगाए। कई अन्य शहरों में भी विरोध प्रदर्शन देखने को मिले। 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप