वाशिंगटन, प्रेट्र। मेक्सिको की सीमा पर दीवार के लिए बजट को लेकर रिपब्लिकन और डेमोक्रेट के बीच सैद्धांतिक सहमति बन गई है। इसके साथ ही अमेरिका में एक और सरकारी शटडाउन का खतरा भी लगभग खत्म हो गया है। हालांकि, खबरों के मुताबिक राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा मांगे जा रहे 5.7 अरब डॉलर (लगभग 35,000 करोड़ रुपये) के मुकाबले यह धनराशि बहुत कम है।

सांसदों ने सोमवार को समझौते की घोषणा की। इसके लिए शुक्रवार तक का वक्त था। लेकिन बातचीत का पूरा ब्योरा नहीं दिया। राष्ट्रपति ट्रंप ने चुनाव प्रचार के दौरान मेक्सिको की सीमा पर दीवार का निर्माण कराने का वादा किया था। वो देश में बढ़ते अपराध के लिए मेक्सिको से आने वाले अवैध प्रवासियों को जिम्मेदार ठहराते रहे हैं।

उन्होंने दीवार के निर्माण के लिए कांग्रेस से 5.7 अरब डालर (लगभग 35,000 करोड़ रुपये) का बजट मांगा था। लेकिन अमेरिकी संसद कांग्रेस में डेमोक्रेटिक सांसदों के विरोध के चलते उनकी मांग पूरी नहीं हुई थी। इसके बाद अमेरिका में 35 दिनों तक सरकारी शटडाउन चला।

रिपोर्ट के मुताबिक अब दोनों पक्षों के बीच घरेलू सुरक्षा और अन्य छह बिलों पर सहमति बनी है। इसमें सीमा पर दीवार के लिए 1.37 अरब डॉलर के बजट पर सहमति हुई है। सहमति बनने के बाद अब माना जा रहा है कि 15 फरवरी से पहले प्रतिनिधि सभा और सीनेट में नया प्रस्ताव पारित होगा।

अगर इस प्रस्ताव को ट्रंप सरकार द्वारा मान लिया जाता है तो सत्तापक्ष और विपक्ष के बीच टकराव खत्म होने के आसार हैं, क्योंकि दीवार के लिए बजट नहीं मिलने पर ट्रंप ने बजट में कटौती करने की धमकी दी थी।

हिल अखबार के मुताबिक, संभावित समझौते में कंक्रीट की दीवार बनाने पर पाबंदी लगाई गई है। इसमें लगभग 88 किलोमीटर लंबी मेक्सिको सीमा पर रियो ग्रांट वैली सेक्टर में नए बैरियर लगाने की बात कही गई है।

व्हाइट हाउस ने समझौते पर कोई टिप्पणी नहीं की है। टेक्सास के अल पासो में जनसभा में ट्रंप ने ये जरूर कहा कि हमें कुछ अच्छी खबर मिलने वाली है। ट्रंप ने कहा, 'दीवार जरूरी, इसका निर्माण होना चाहिए और हम जल्द इसका निर्माण करना चाहते हैं।' इससे पहले, ट्रंप ने दीवार के लिए बजट की तरफ इशारा करते हुए कहा था कि एक और शटडाउन डेमोक्रेट पर निर्भर है।

-------------------------

इनसेट

------------------

मुस्लिम सांसद ने बयान के लिए मांगी माफी

वाशिंगटन, प्रेट्र : सोमालिया मूल की मुस्लिम महिला सांसद इल्हान उमर ने यहूदियों के खिलाफ दिए अपने बयान के लिए माफी मांग ली है। अमेरिकी कांग्रेस के निचले सदन प्रतिनिधि सभा के लिए उमर मिनेसोटा से चुनी गई थीं। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उमर के बयान को 'भयानक बयान' बताया था।

उमर ने रविवार को एक ट्वीट में प्रभावशाली अमेरिकी इजराइल पब्लिक अफेयर्स कमेटी (एआइपीएसी) और कांग्रेस सदस्यों के बीच वित्तीय संबंधों पर सवाल उठाए थे। एक रिपब्लिकन आलोचक को प्रतिक्रिया देते हुए 37 वर्षीय उमर ने बेंजामिन फ्रैंकलिन की तस्वीर वाले 100 डॉलर के नोट का जिक्र करते हुए कहा था कि यह सब धन का मामला है।

बाद में उन्होंने अपनी पार्टी के शीर्ष नेताओं द्वारा बयान की आलोचना करने और माफी मांगने के लिए कहने पर माफी मांग ली। उमर ने कहा, 'अपने निर्वाचकों और यहूदी समुदाय की भावना को ठेस पहुंचाने का उनका कभी कोई इरादा नहीं रहा। इसलिए मैं माफी मांगती हूं।'

----------------------

Posted By: Arun Kumar Singh