वाशिंगटन, प्रेट्र। अमेरिका में पीएम मोदी के हाउडी मोदी कार्यक्रम के लिए मंच पूरी तरह से तैयार है, जहां प्रधानमंत्री 50 हजार से अधिक भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित करने वाले हैं। पीएम मोदी की यात्रा से पहले अमेरिका के राष्ट्रपति चुनावों के लिए पहली भारतीय मूल की महिला उम्मीदवार तुलसी गबार्ड ने नरेंद्र मोदी का गर्मजोशी से स्वागत किया है।

उन्होंने एक वीडियो संदेश में कहा, 'नमस्ते! मैं प्रधानमंत्री मोदी की अमेरिका की यात्रा पर उनका हार्दिक स्वागत करना चाहता हूं और मुझे खेद है कि मैं पहले से निर्धारित राष्ट्रपति चुनाव प्रचार कार्यक्रमों के कारण वहां शामिल नहीं हो पाऊंगा। मैं वास्तव में बहुत खुश हूं।' उन्होंने वीडियो संदेश में आगे कहा, 'हमारे देश से बहुत सारे भारतीय-अमेरिकियों के साथ-साथ कांग्रेस के सहयोगी भी वहां आ रहे हैं।'

बता दें, हाउडी मोदी कार्यक्रम में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ अमेरिकी सरकार के कई बड़े अधिकारी अधिकारी, जिनमें गवर्नर, कांग्रेस के सदस्य और मेयर भी शामिल हैं।

गबार्ड ने कहा, 'भारत दुनिया का सबसे पुराना और सबसे बड़ा लोकतंत्र है और संयुक्त राज्य अमेरिका के सबसे महत्वपूर्ण सहयोगियों में से एक है।' उन्होंने कहा, 'अगर हम अपने देशों, अपने देशों और पूरी दुनिया जैसे जलवायु परिवर्तन का मुकाबला करने, परमाणु युद्ध और परमाणु प्रसार को रोकने और आर्थिक भलाई में सुधार कर रहे हैं, तो हम एकजुट राज्यों और भारत को मिलकर काम करना चाहिए। हमारे लोगों के बारे में।'

ह्यूस्टन में 'हाउडी मोदी'

22 सितंबर को ह्यूस्टन के एनआरजी स्टेडियम में होने वाले हाउडी मोदी का नारा है, 'शेयर्ड ड्रीम्स, ब्राइट फ्यूचर' यानी 'साझा सपने, उज्ज्वल भविष्य।' इस कार्यक्रम के लिए रिकॉर्ड 50,000 से अधिक लोगों ने पंजीकरण कराया है। हालांकि यह कार्यक्रम मूलत: अमेरिकी भारतीयों के लिए है, लेकिन इसमें कोई भी शामिल हो सकता है।

'हाउडी मोदी' में ट्रंप होंगे साथ

प्रधानमंत्री मोदी के सम्मान में अमेरिकी शहर ह्यूस्टन में आयोजित हो रहे हाउडी मोदी को लेकर तब और उत्सुकता बढ़ गई जब यह सूचना आई कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी इसमें शिरकत करेंगे। इसके बाद देश-दुनिया की नजरें इस कार्यक्रम पर टिकना स्वाभाविक हैं।

यह पहला मौका होगा जब कोई अमेरिकी राष्ट्रपति भारतीय समुदाय के ऐसे कार्यक्रम में शामिल होंगे, जिसे हमारे प्रधानमंत्री संबोधित करने वाले हैं। यह भी पहली बार होगा जब कोई अमेरिकी राष्ट्रपति एक ही स्थान पर इतनी बड़ी संख्या में मौजूद भारतीय-अमेरिकियों को संबोधित करेंगे। इस नाते भी यह कार्यक्रम महत्वपूर्ण है जिसे कुछ लोग ऐतिहासिक कह रहे हैं। हालिया दौर में यह पहला अवसर होगा जब दो सबसे बड़े लोकंतत्र के नेता संयुक्त रैली को संबोधित करेंगे। 

इसे भी पढ़ें: जब अमेरिकी सांसद 'Howdy Modi' में जाएंगे तो भारतीय मूल की तुलसी क्यों नहीं? मिला यह जवाब

Posted By: Shashank Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप