वाशिंगटन, पीटीआइ। अमेरिकी वैज्ञानिकों ने एक ऐसा कैप्सूल तैयार किया है, जो इंसुलिन व अन्य ऐसी दवाओं को शरीर में पहुंचाने में सक्षम है, जिन्हें आमतौर पर इंजेक्शन के जरिये शरीर में पहुंचाया जाता है। वैज्ञानिकों ने बताया कि कई दवाएं, खासकर प्रोटीन से बनी दवाएं गोली या कैप्सूल के रूप में नहीं गटकी जा सकती हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि ऐसी दवाएं अक्सर पाचन तंत्र पहुंचते ही अपना असर दिखाने से पहले नष्ट हो जाती हैं।

इंसुलिन के साथ भी ऐसा ही है। अब वैज्ञानिकों ने ऐसा कैप्सूल बनाया है, जो छोटी आंत में पहुंचकर सुई के रूप में धीरे-धीरे दवा को मुक्त करता है। ये सुइयां आंत के किनारों से चिपककर धीरे-धीरे दवा को खून में पहुंचा देती हैं और घुलकर खत्म हो जाती हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि यह कैप्सूल भी इंजेक्शन जितनी दवा को शरीर में पहुंचाने में सक्षम है। अमेरिका के मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआइटी) के शोधकर्ताओं ने एक फार्मा कंपनी के साथ मिलकर यह कैप्सूल तैयार किया है। 

बता दें कि डायबिटीज के मरीजों को इंसुलिन लेने के लिए बार-बार इंजेक्शन लेना पड़ता है। इसके अतिरिक्त कैंसर व अन्य घातक बीमारियों की दवा भी इंजेक्शन से ही लेनी पड़ती है। ये दवाइयां बड़े अणुओं से बनी होती हैं और मरीज की आंत इसको पचा नहीं पाती है। इसी के चलते लंबे समय से वैज्ञानिक ऐसा तरीका विकसित करने की कोशिश में थे जिसकी मदद से मरीज बिना इंजेक्शन के ही इंसुलिन जैसी दवाएं ले सकें। अब वैज्ञानिकों को इस शोध में सफलता मिल गई है। 

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस