विलमिंगटन (एपी)। अमेरिका के शीर्ष संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉक्‍टर एंथनी फॉसी ने कहा है कि देश गलत राह पर आगे बढ़ रहा है। उन्‍होंने ये बयान देश के उन लोगों पर दिया है जिन्‍होंने अब तक वैक्‍सीन नहीं ली है या फिर जहां पर वैक्‍सीनेशन की रफ्तार काफी धीमी है। उनका कहना है कि ऐसे लोगों की वजह से देश में संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे और डेल्‍टा वैरिएंट के भी मामले लगातार सामने आ रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि हम गलत रास्‍ते पर आगे बढ़ रहे हैं जिसकी वजह से उन्‍हें अब गुस्‍सा भी आने लगा है।

डॉक्‍टर फॉसी ने ये भी कहा है कि वैक्‍सीनेट हो चुके स्‍वास्‍थ्‍य सेवा से जुड़े कर्मियों को मास्‍क लगाने की जरूरत पर सक्रियता से विचार करने की सिफरिश की गई है। इसके अलावा वैक्‍सीन लेने के बाद भी जिन लोगों के शरीर में एंटीबॉडी नहीं बनी हैं या जिनका इम्‍यून सिस्‍टम कमजोर है, उन्‍हें एक और बूस्‍टर शॉटर का सुझाव भी दिया जा सकता है। आपको बता दें कि डॉक्‍टर फॉसी संक्रामक रोग विशेषज्ञ के अलावा राष्‍ट्रपति जो बाइडन के चीफ मेडिकल एडवाइजर भी हैं। एपी ने सीएनएन के हवाले से बताया है कि फॉसी ने कहा है कि इस संबंध में नजर आती खतरनाक स्थिति पर उनकी बात हो चुकी है।

उन्‍होंने बताया है कि बढ़ते मामलों की वजह से लॉस एंजेलिस में लोगों से सार्वजनिक स्‍थलों और इंडोर में भी मास्‍क लगाने को कहा गया है। ये नियम उपर भी लागू है जिन्‍होंने वैक्‍सीन की खुराक ले रखी है। उनके मुताबिक सीडीसी की मास्‍क के संबंध में जारी पूर्व की गाइडलाइन के बाद भी ये नियम लागू किया गया है।

अमेरिकी सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के ताजा आंकड़ों के मुताबिक देश के करीब 49 फीसद लोगों को वैक्‍सीनेट किया जा चुका है। 12-15 वर्ष की आयु के करीब 57 फीसद टीनेजर्स को ये वैक्‍सीन दी जा चुकी है।उन्‍होंने कहा कि वैक्‍सीन न लेने वालों की वजह से ये मामले बढ़ रहे हैं। उन्‍होंने लोगों से अपील की है कि वो जल्‍द से जल्‍द वैक्‍सीन लगवाएं। आपको यहां पर ये भी बता दें कि हाल ही में अमेरिका में मास्‍क को लेकर नई गाइडलाइन जारी करने से साफ इनकार कर दिया गया था। 

ये भी पढ़ें:- 

भले ही यूएस में बढ़ रहे हैं डेल्‍टा वैरिएंट के मामले, लेकिन मास्‍क को लेकर गाइडलाइन में नहीं कोई बदलाव

Edited By: Kamal Verma