Move to Jagran APP

US: पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी संविधान को खत्म करने की कही बात, व्हाइट हाउस ने की निंदा

Trump Call for suspend Constitution ट्रंप ने वर्ष 2020 में अपनी जीत का झूठा दावा करते हुए अब संविधान को खत्म करने की बात कर रहे है। उन्होंने एक सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए वर्ष 2020 के चुनाव को धोखाधड़ी करार दिया है।

By AgencyEdited By: Nidhi AvinashPublished: Mon, 05 Dec 2022 10:37 AM (IST)Updated: Mon, 05 Dec 2022 10:40 AM (IST)
US: पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी संविधान को खत्म करने की कही बात, व्हाइट हाउस ने की निंदा
US: पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी संविधान को खत्म करने की कहीं बात, व्हाइट हाउस ने की निंदा

वाशिंगटन, एजेंसी। Trump Call for suspend Constitution: अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने हाल ही में 2024 के चुनावी मैदान में उतरने की घोषणा की जिसके बाद से वे सुर्खियों में बने हुए है। ट्रंप विपक्ष पर लगातार निशाना भी साध रहे है। इसी को देखते हुए अब उन्होंने वर्ष 2020 के राष्ट्रपति चुनाव का मामला एक बार फिर से उठा दिया है। ट्रंप ने वर्ष 2020 में अपनी जीत का झूठा दावा करते हुए अब संविधान को खत्म करने की बात कर रहे है। उन्होंने एक सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए वर्ष 2020 के चुनाव को धोखाधड़ी करार दिया है और अमेरिका के संविधान को नष्ट करने का आह्वान किया है।

loksabha election banner

बड़ी टेक कंपनियों पर ट्रंप का आरोप

ट्रंप के इस बयान से अब अमेरिका की राजनीति में सियासी घमासान शुरू हो गया है। ट्रंप ने न केवल संविधान को खत्म करने की बात की बल्कि उन्होंने 2020 के राष्ट्रपति चुनाव में बड़ी टेक कंपनियों पर भी बड़े आरोप लगाए है। उन्होंने कहा कि 2020 के राष्ट्रपति चुनाव में बड़ी टेक कंपनियां डेमोक्रेट्रिक पार्टी के साथ मिल गई थी और उनके खिलाफ हो गई थी।

इंडोनेशिया के माउंट सेमेरू ज्वालामुखी में भयानक विस्फोट, चारों तरफ छाया धुआं ही धुआं, देखिए वीडियो

ट्रंप ने सोशल मीडिया पर पोस्ट की अपनी टिप्पणी

डोनाल्ड ट्रंप ने शनिवार को अपने सोशल मीडिया ट्रूथ सोशल पर एक पोस्ट जारी किया था, जिसमें उन्होंने अपनी जीत के झूठे दावे को दोहराते हुए कहा कि 2020 का राष्ट्रपति चुनाव ट्रंप ने जीता था। बिग टेक कपंनियों पर आरोप लगाते हुए उन्होंने दावा किया कि डेमोक्रेट्स के साथ मिलकर टेक कंपनियां उनके खिलाफ हो गई। ट्रंप ने मांग की कि अमेरिकी संविधान को खत्म कर देना चाहिए। उनके इस बयान से अमेरिकी राजनीति में हलचल मच गई है।

डेमोक्रेटिक नेता ने ट्रंप के बयान की निंदा की

डेमोक्रेटिक नेता हकीम जेफ्रीस ने रविवार को ट्रंप के बयान को अजीब और अतिवादी बताया और कहा कि रिपब्लिकन को चुनाव करना होगा कि ट्रंप के लोकतंत्र विरोधी विचारों को जारी रखना है या नहीं। ट्रम्प की टिप्पणियों के बारे में पूछे जाने पर, ओहायो के माइक टर्नर, हाउस इंटेलिजेंस कमेटी के शीर्ष रिपब्लिकन, ने कहा कि वह ट्रंप के बयान से असहमत हैं और इस टिप्पणी की निंदा करते हैं।

Mosque Attack In Nigeria: नाइजीरिया के मस्जिद में बंदूकधारियों ने की गोलीबारी,12 की मौत; कई लोगों को किया अगवा

व्हाइट हाउस ने भी की निंदा

ट्रंप की इस टिप्पणी पर व्हाइट हाउस के प्रवक्ता एंड्रयू बेट्स ने कहा कि उनका ये बयान हमारे देशष की आत्मा के लिए अभिशाप है। ट्रंप की टिप्पणी की पूरी दुनिया में निंदा की जा रही है। वहीं ट्रंप के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रहे रिपब्लिकन जॉन बोल्टन ने ट्वीट करते हुए कहा, '2020 के चुनाव के नतीजों के कारण संविधान को निलंबित करने के ट्रंप के आह्वान से कोई भी अमेरिकी रूढ़िवादी सहमत नहीं हो सकता है। ट्रंप फिर से 2024 के चुनाव की तैयारी कर रहे हैं, लेकिन उनका चुनाव प्रचार न हो इसका विरोध किया जाए।'

एलन मस्क के एक बयान के बाद आया ट्रंप का बयान

ट्रंप का ये बयान तब आया जब ट्विटर के नए बॉस एलन मस्क ने ट्विटर पर अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के बेट हंटर बाइडेन को लेकर बड़ा खुलासा किया था। मस्क ने दावा किया था कि जो बाइडेन के बेटे को लेकर वर्ष 2020 में न्यूयॉर्क पोस्ट ने जो स्टोरी की थी, उसे ट्विटर ने सेंसर कर दिया था।

ये स्टोरी वर्ष 2020 के राष्ट्रपति चुनाव से कुछ हफ्ते पहले आई थी। मस्क ने तर्क दिया था कि जो बाइडेन के बेटे हंटर बाइडेन की रिपोर्टों और गार्फिक तस्वीरों को सेंसर कर ट्विटर ने डेमोक्रेट्स को जीतने में मदद दिलाई थी। बता दें कि रिपोर्ट में हंटर बाइडेन को आपत्तिजनक स्थिति में दिखाया गया था लेकिन ट्विटर ने इस पोस्ट पर बैन लगा दिया था, जिसके कारण इस रिपोर्ट की पहुंच काफी सीमित हो गई थी।

Iran: इजरायली खुफिया एजेंसी के लिए जासूसी करने के आरोप में ईरान ने चार को दी फांसी


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.