वाशिंगटन, एजेंसियां। तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण के कारण अमेरिका ने अपने नागरिकों को भारत की यात्रा न करने की सलाह दी है। पाकिस्तान ने भी यात्रा पर अस्थाई रूप से रोक लगा दी है। अमेरिका के डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) ने अपने बयान में कहा है कि भारत की वर्तमान स्थिति को देखते हुए वैक्सीन की दोनों डोज लगवा चुके लोगों के लिए भी यात्रा करना घातक होगा। इसलिए भारत की यात्रा से बचें। यदि जाना जरूरी है तो मास्क पहनकर, छह फीट की दूरी के साथ रहें। लगातार हाथ धोते और भीड़ में जाने से बचें।

इसके साथ ही अमेरिका ने कहा है कि बाहर जाने वाले यात्रियों ने अगर वैक्सीन के दोनों डोज लगवा लिए हैं, उन्हें देश से बाहर जाने के लिए कोरोना टेस्ट की जरूरत नहीं है। जिस देश में जा रहे हैं, वहां आवश्यक हो, तो टेस्ट जरूर कराएं। वापस लौटने पर सेल्फ-क्वारंटाइन करने की आवश्यकता नहीं है। अपने देश में ही कोरोना संक्रमण से जूझने वाले पाकिस्तान ने भी एहतियातन भारत से आवा-जाही को अस्थाई रूप से रोक दिया है। भारत को पाक ने सी कैटेगरी में रखा है। इसके तहत हवाई या सड़क मार्ग से आने पर अस्थाई रूप से रोक लगा दी गई है। ज्ञात हो कि इससे पहले हांगकांग भी इसी तरह की रोक लगा चुका है। भारत में पिछले कुछ दिनों से कोरोना के नए मामलों में जबर्दस्त तेजी आई है।

ब्रिटेन ने भारतीय यात्रियों पर लगाई रोक

ज्ञात हो कि भारत में कोरोना महामारी के खतरनाक स्तर पर पहुंचने से विश्व बिरादरी भी चिंता में है। कई देशों ने भारत से आने-जाने वालों के लिए अपनी सीमाएं बंद करनी शुरू कर दी है। सबसे पहले ब्रिटेन ने भारत से आने वाले सभी गैर ब्रिटिश नागिरकों के लिए अपने दरवाजे बंद कर दिए हैं। रूस ने भी भारत में वीजा देने की प्रक्रिया कुछ दिनों के लिए स्थगित करने का फैसला किया है।

ब्रिटेन के स्वास्थय मंत्रालय ने सोमवार को उन देशों की एक रेड लिस्ट जारी की है जहां अगर कोई भी व्यक्ति पिछले 10 दिनों के भीतर गया है या रहा है तो उसे ब्रिटेन नहीं आने दिया जाएगा। इस नियम में सिर्फ ब्रिटिश नागिरकों को छूट है लेकिन उन्हें भी ब्रिटेन पहुंचने पर 10 दिनों तक पूर्व निर्धारित होटल में क्वारंटाइन होना पड़ेगा। भारतीय यात्रियों के लिए यह नियम 23 अप्रैल प्रभावी होगा। ब्रिटिश सरकार ने यह फैसला पीएम बोरिस जॉनसन की भारत यात्रा रद्द होने के कुछ ही घंटे के बाद किया है।

ब्रिटेन ने यह फैसला पिछले कुछ दिनों में कोविड प्रभावित मामलों और इनके भारत से लिंक होने की वजह से लिया है। इसके पहले न्यूजीलैंड ने भी 28 अप्रैल तक किसी भी भारतीयों के आने पर रोक लगा दी है। एक दिन पहले हांगकांग ने भी ऐसा ही फैसला किया था।

उधर, नई दिल्ली स्थित रूस के दूतावास की तरफ से बताया गया है कि भारत में कोविड के बढ़ते मामलों को देखते हुए 19 अप्रैल, 2021 से वीजा देने की प्रक्रिया पर अगली सूचना तक रोक लगा दी गई है। अमेरिका ने 20 से 25 अप्रैल तक के लिए वीजा देने के लिए आयोजित होने वाले सभी साक्षात्कारों पर रोक लगाने का एलान किया है। अमेरिकी दूतावास की तरफ से बताया गया है कि यह फैसला दिल्ली में कर्फ्यू को देखते हुए उठाया गया है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप