v style="text-align: justify;">वाशिंगटन, रायटर/एएफपी : सीरिया में रूस और पश्चिमी देशों के बीच सैनिक टकराव को लेकर गुरुवार को तेज गहमागहमी रही। वहीं अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सीरिया पर हमले के समय को लेकर रहस्य बनाए रखा है। गुरुवार सुबह उन्‍होंने ट्वीट किया कि उन्होंने यह कभी नहीं कहा कि सीरिया पर हमला कब होगा। यह बहुत जल्द हो सकता है या फिर इतनी जल्द नहीं हो सकता।' इसके एक दिन पहले ही उन्होंने ट्वीट किया था कि मिसाइलें आ रही हैं। कथित रासायनिक हमले के बाद सीरिया में तेज सैन्य कार्रवाई के लिए उन्‍होंने रूस को तैयार रहने के लिए कहा था।

 
इस बीच ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरीजा मे ने सीरिया के खिलाफ सैन्य कार्रवाई में शामिल होने पर विचार करने के लिए कैबिनेट की बैठक बुलाई। ब्रिटेन के ब्रेक्जिट मंत्री डेविड डेविस ने कहा कि सीरिया में स्थिति बहुत भयावह है। रासायनिक हथियार के इस्तेमाल को रोकना है लेकिन यह बहुत जटिल परिस्थिति है। हमें सावधानीपूर्वक फैसले लेने होंगे। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने कहा कि जब हमें लगेगा कि सीरिया पर हमले का यह सबसे उपयोगी और प्रभावी समय है, हम इसका फैसला ले लेंगे। उन्होंने कहा कि वह संघर्ष को मध्य पूर्व से बाहर फैलने से रोकने के प्रयास करेंगे।
 
 उधर सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल-असद ने चेतावनी दी कि पश्चिमी देशों की सैन्य कार्रवाई से क्षेत्र में अस्थिरता और बढ़ेगी। इससे अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा को खतरा होगा। उन्होंने ईरान के सुप्रीम लीडर अयातुल्ला अली खामनेई के विदेश नीति सलाहकार अली अकबर विलायती के साथ मुलाकात के बाद यह बात कही।
 

Posted By: Jagran News Network

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस