नई दिल्ली, प्रेट्र। विश्व को अभी कोरोना महामारी से मुक्ति नहीं मिलने वाली है और न ही ओमिक्रोन कोई आखिरी वैरिएंट है। यह कहना है अमेरिका के शीर्ष संक्रामक रोग विशेषज्ञ डा. एंथनी फासी का। उन्होंने कहा कि यह कहना बहुत मुश्किल है कि हालात कब सामान्य होंगे, लेकिन यह भी संभव नहीं है कि लोग हमेशा मास्क पहनकर घूमेंगे। डा. फासी विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) के आनलाइन दावोस एजेंडा शिखर सम्मेलन के पहले दिन कोरोना महामारी पर आयोजित सत्र को संबोधित कर रहे थे।

विश्व आर्थिक मंच के पहले दिन कोरोना सत्र पर कहा, ओमिक्रोन कोई आखिरी वैरिएंट नहीं

उन्होंने कहा कि परिस्थितियां कब तक सामान्य होंगी यह बहुत कुछ इस पर निर्भर करेगा कि कोरोना के आगामी वैरिएंट कितने संक्रामक और घातक होते हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति के मुख्य चिकित्सा सलाहकार डा. फासी ने यह भी कहा कि ओमिक्रोन बहुत ज्यादा संक्रामक है, लेकिन उतना घातक नहीं है।

उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर विश्व भर में तमाम तरह की भ्रामक खबर चल रही हैं। यह न सिर्फ विनाशकारी है, बल्कि सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए किए जा रहे प्रयासों के खिलाफ भी हैं। उन्होंने कहा कि हालात कब तक सामान्य होंगे इसके बारे में कुछ भी नहीं कहा जा सकता है। परंतु, हम सभी एक सामान्य काम कह कर सकते हैं कि एक दूसरे के साथ एकजुटता दिखाएं और यह हमेशा याद रखें कि महामारी हमारे साथ क्या कुछ कर सकती है।

दवा कंपनी माडर्ना की सीईओ स्टीफन बैंसल के अलावा कोअलिशन फार एपिडेमिक प्रीपेयर्डनेस (सीईपीआई) के सीईओ रिचर्ड हैचेट और लंदन की संक्रामक रोग विशेषज्ञ एनेलाइस वाइल्डर स्मिथ ने भी सत्र को संबोधित किया। स्मिथ ने कहा कि ओमीक्रोन वायरस का आखिरी स्वरूप नहीं होगा और महामारी जल्द ही समाप्त नहीं होने जा रही है।

Edited By: Arun Kumar Singh