न्यूयार्क, प्रेट्र। अमेरिका की एक अदालत ने फ्लोरिडा निवासी मानव तस्करी के आरोपित को कुछ शर्तों के साथ बिना बांड जेल से रिहा कर दिया है। उसे पिछले हफ्ते दो भारतीयों के अमेरिका में अवैध परिवहन व चार अन्य की कनाडा के पास कड़ाके की ठंड से मौत के मामले में गिरफ्तार किया गया था।

47 वर्षीय स्टीव शैंड पर अमेरिकी कानून का उल्लंघन कर विदेशियों को देश में अवैध रूप से लाने का आरोप है। वह 20 जनवरी को मिनसोटा स्थित जिला कोर्ट की मजिस्ट्रेट हिल्डी बाउबीर के समक्ष पहली बार पेश हुआ था, जब उसे 24 जनवरी तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था। अमेरिकी अखबार ग्रांड फो‌र्क्स हेराल्ड के अनुसार, शैंड को सोमवार को वर्चुअल तरीके से पेश किया गया। अदालत ने उसे केस लंबित रहने तक सशर्त रिहा करने का आदेश दिया है। रिपोर्ट के अनुसार, 30 मिनट की सुनवाई के दौरान शैंड ने कोई टिप्पणी नहीं की। वह सिर्फ 'यस मैम, यस योर आनर' करता रहा। रिहाई की शर्तों के तहत उसे पासपोर्ट सरेंडर करने के साथ सुनवाई के दौरान कोर्ट में पेश होना होगा। उसे साक्ष्यों और गवाहों से दूर रहना होगा। यदि दोषी पाया गया तो उसे जेल जाना होगा।

उल्लेखनीय है कि शैंड अपनी वैन में दो भारतीयों को बगैर वैध दस्तावेज के कनाडा से लेकर अमेरिका में प्रवेश किया था। उसे कनाडा-अमेरिका सीमा के दो किलोमीटर दूर ग्रामीण इलाके में पकड़ लिया गया था। जब दोनों भारतीयों व शैंड को पेंबिना बार्डर चौकी पर लाया जा रहा था, तब वहां सुरक्षा एजेंसियों को पांच और भारतीय मिले थे। उनके पास चार भारतीयों का एक बैग भी था, जो आगे निकल गए थे। इस बीच 19 जनवरी को खबर मिली कि रायल माउंटेड कनाडा पुलिस को चार शव मिले हैं, जो बर्फ व ठंड के कारण जम गए हैं। ये उन्हीं भारतीयों के शव थे, जो पांचों लोगों से बिछुड़ गए थे।

गुजरात के रहने वाले थे चारों भारतीय

जागरण संवाददाता के अनुसार, ठंड के कारण मारे गए चारों भारतीय गुजरात के गांधीनगर जिले के रहने वाले थे। मृतकों में 35 साल के जगदीश पटेल, 33 साल की उनकी पत्‍‌नी वैशाली, 13 वर्ष की बेटी विहांगी व तीन साल का पुत्र धार्मिक शामिल हैं।

Edited By: Dhyanendra Singh Chauhan