वाशिंगटन, एजेंसियां। कोरोनावायरस महामारी से यूरोप में तीस हजार से ज्यादा लोगों की जान गई है। 21 हजार से ज्यादा मौतें अकेले दो देशों इटली और स्पेन में हुई हैं। उधर, कोरोना के संदिग्धों का पता लगाने के लिए यूरोपीय वैज्ञानिक कान्टेक्ट ट्रेसिंग एप लांच करने की योजना पर काम कर रहे हैं। हाल ही में यूरोप से अलग हुआ ब्रिटेन भी इस तरह का एप बना रहा है, जिसके जल्द लांच होने की उम्मीद है। पूरे यूरोप में संक्रमण की बात करें तो 4,58,061 लोग इससे प्रभावित हैं। वहीं अकेले यूरोप में 30,063 लोगों की मौत हुई है। सर्वाधिक 12,428 मौतें इटली में हुई हैं जबकि स्पेन में 9,053 लोगों की जान गई है। उधर, अमेरिका में मृतकों की संख्या चार हजार से ज्यादा हो गई है। पिछले शनिवार के मुकाबले यह संख्या दोगुनी है।

स्पेन में 864 और लोगों की मौत

स्पेन में पिछले चौबीस घंटे में 864 लोगों की और मौत हुई है। मरने वालों की तादाद वहां 9053 हो गई है। वहीं संक्रमित लोगों की संख्या 102,316 हो गई है। संक्रमित लोगों की संख्या की दर पहले जहां 11 फीसद थी वहीं अब यह घटकर आठ फीसद रह गई है। महामारी से राजधानी मैड्रिड सबसे ज्यादा प्रभावित है। यहां पर 3,856 लोगों की मौत हुई है। जबकि तीस हजार संक्रमित मामले हैं।

वैक्सीन ही एकमात्र तरीका

ऑस्ट्रेलिया में बुधवार को मृतकों की संख्या 21 हो गई। जबकि संक्रमित मामलों की संख्या 4860 हो गई है। ऑस्ट्रेलिया के स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि वैक्सीन ही इस महामारी से निपटने का एकमात्र तरीका है।

अमेरिका में तीन दिन में दो हजार से ज्यादा की मौत  

कोरोना महामारी से दुनिया के सबसे ताकतवर देश अमेरिका में हालात बेकाबू होते जा रहे हैं। बीते तीन दिनों में ही दो हजार से ज्यादा पीडि़तों ने दम तोड़ दिया। इसको लेकर जान गंवाने वालों की संख्या चार हजार के पार पहुंच गई है। इस आंकड़े ने अमेरिका में नौ सितंबर, 2001 को आतंकी हमले में मारे गए लोगों की संख्या को भी पीछे छोड़ दिया है। 9/11 हमले में करीब तीन हजार लोगों की जान गई थी। अमेरिका में कोरोना से करीब एक लाख 90 हजार लोग संक्रमित हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का अनुमान है कि महामारी के चलते एक से दो लाख अमेरिकियों की जान जा सकती है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी कहा है कि अगले दो हफ्ते बेहद दर्द भरे हो सकते हैं।

ट्रंप बोले- यह जिंदगी और मौत का मामला 

अमेरिकी राष्‍ट्रपति ट्रंप ने कहा है अमेरिकियों के लिए अगले 30 दिनों तक दिशा-निर्देशों का पालन करना यकीनन कठिन है, लेकिन यह जिंदगी और मौत का मामला है। ट्रंप ने दो दिन पहले ही अमेरिका में सोशल डिस्टेंसिंग के दिशा-निर्देशों को 30 अप्रैल तक बढ़ा दिया था। ट्रंप ने यह भी कहा कि कोरोना वायरस की फ्लू से तुलना करना गलत है। उन्होंने ही इससे पहले हर साल होने वाले फ्लू के प्रकोप से इस महामारी की तुलना की थी। कोरोना वायरस पर ह्वाइट हाउस टास्क फोर्स की सदस्य डेबोरा ब‌र्क्स ने आशंका जताई है कि सख्त पाबंदियों के बावजूद मरने वालों का आंकड़ा एक से दो लाख तक पहुंच सकता है।

अकेले न्यूयॉर्क में एक हजार से अधिक की गई जान

अमेरिका में कोरोना महामारी का केंद्र बने न्यूयॉर्क शहर में सबसे खराब स्थिति है। अकेले इस शहर में ही एक हजार से ज्यादा कोरोना मरीजों की जान जा चुकी है। न्यूयॉर्क में हालात ऐसे बन गए हैं कि तेजी से बढ़ रहे मरीजों से निपटने में स्वास्थ्य व्यवस्था नाकाफी पड़ गई है। शहर के सभी अस्पताल मरीजों से भरे हैं। मेयर ने बिली जीन किंग टेनिस सेंटर समेत कई स्थानों पर अस्थायी अस्पताल बनाने का एलान किया है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार, न्यूयॉर्क शहर में 31 मार्च तक एक हजार 96 लोगों की मौत हुई और 41 हजार 771 लोग संक्रमित पाए गए। पूरे न्यूयॉर्क राज्य में संक्रमित लोगों का आंकड़ा 75 हजार के पार पहुंच चुका है। 

गुटेरेस बोले द्वितीय विश्‍व युद्ध के बाद सबसे बड़ी चुनौती

वहीं संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने कोरोना वायरस को द्वितीय विश्‍व युद्ध के बाद की सबसे बड़ी चुनौती करार दिया है। उन्‍होंने कहा कि नजदीकी इतिहास में ऐसा भयानक संकट नहीं पैदा हुआ था। यह महामारी न केवल लोगों की जान ले रही है बल्कि दुनिया को आर्थिक मंदी में भी धकेल रही है। यह महामारी स्वास्थ्य संकट से कहीं आगे की चीज है। इस महामारी के प्रभाव से आर्थिक मंदी आएगी। यह ऐसी मंदी होगी कि जिसकी नजदीकी इतिहास में कोई उदाहरण नहीं देखा गया होगा।

ईरान में मृतकों की संख्या तीन हजार से ज्यादा

ईरान में पिछले चौबीस घंटे में 138 लोगों की जान गई है। इस तरह वहां मृतकों की संख्या 3036 हो गई है। 2,987 संक्रमण के नए मामले सामने आए हैं। संक्रमित लोगों की संख्या 47,593 हो गई है। राष्ट्रपति हसन रूहानी ने कहा कि ईरान पर से प्रतिबंध हटाने का एक अच्छा मौका अमेरिका ने गंवा दिया है। बता दें कि मंगलवार को विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने इस बात के संकेत दिए थे कि वाशिंगटन कोरोना से लड़ने के मामले में ईरान को कुछ रियायत दे सकता है। हालांकि उन्होंने इसकी कोई स्पष्ट रूपरेखा नहीं बताई थी।

ब्रिटेन में एक दिन 500 से ज्यादा लोगों की मौत

ब्रिटेन में मंगलवार को 563 लोगों की मौत हुई। यह पहला मौका है जब वहां एक दिन में मरने वालों का आंकड़ा 500 की संख्या को पार कर गया है। देश में मृतकों की संख्या 2,352 हो गई है। उधर, कोरोना संक्रमित ब्रिटेन के प्रिंस चा‌र्ल्स की हालत में सुधार है। एक वीडियो मैसेज में उन्होंने कहा,'मेरी तबियत ठीक हो रही है, लेकिन मैं अभी भी सोशल डिंस्टेंसिंग का पालन कर रहा हूं।' उनकी पत्नी कैमिला का हालांकि टेस्ट निगेटिव आया है, लेकिन वह इस सप्ताह के अंत तक आइसोलेशन में रहेंगी। वहीं ब्रिटेन ने टेस्टिंग की संख्या अप्रैल मध्य तक 25,000 प्रतिदिन करने की बात कही है। बता दें कि जर्मनी में पांच लाख लोगों की प्रति सप्ताह टेस्टिंग की जा रही है, लेकिन ब्रिटेन में यह आंकड़ा 12,750 प्रतिदिन है।

चीन में बिना लक्षण वाले 1541 कोरोना रोगी

चीन में बिना लक्षण वाले 1,541 कोरोना रोगियों का पता चला है। चीन के नेशनल हेल्थ कमीशन ने दूसरे दौर के संक्रमण से बचने के लिए इन रोगियों की सूची जारी की है। इन सभी को डॉक्टरों की निगरानी में रखा गया। इसमें से 205 वे लोग हैं जो विदेश से चीन आए हैं। चीन में संक्रमण के 35 नए मामले भी सामने आए हैं जिनमें एक स्‍थानीय जबकि बाकी सभी विदेश से आए मरीज हैं। चीन में कोरोना से सात और लोगों की मौत हो गई है जिसके साथ ही मृतकों की संख्या बढ़कर 3,312 हो गई है। साथ ही संक्रमित मरीजों की संख्‍या 81,544 पर पहुंच गई है।

देश मौतें-संक्रमित

इटली 12,428-105,792

स्पेन 9053-102,136

अमेरिका 4066-188,881

चीन 3312-81,554

ईरान 3036-47,593

फ्रांस 3,523-52,128

सऊदी अरब की मुस्लिमों से हज यात्रा में देरी करने का अनुरोध

सऊदी अरब ने लाखों मुस्लिमों से इस साल अपनी हज की यात्रा में देरी करने का अनुरोध किया है। कोरोना के चलते हज यात्रा को रद भी किया जा सकता है। सऊदी अरब के हज और उमराह मंत्री मुहम्मद सालेह बिन ताहेर बांतेन ने सरकारी टेलीविजन पर कहा कि सल्तनत सभी मुस्लिमों और नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित कर रहा है। इसलिए दुनियाभर के मुस्लिमों से अनुरोध किया गया है कि वो जब तक यात्रा को लेकर कोई स्पष्ट निर्देश नहीं दिया जाता, तब तक टूर ऑपरेटरों के साथ किसी तरह का समझौता नहीं करें। हज यात्रा जुलाई में शुरू होने वाली थी। हर साल तकरीबन 20 लाख लोग हज यात्रा करते हैं। कोरोना को रोकने के लिए सऊदी अरब ने फरवरी में मक्का और मदीना जैसे शहरों में विदेशियों के प्रवेश पर पाबंदी लगा दी थी।  

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस