वाशिंगटन डीसी, एएनआइ। 26/11 मुंबई हमले की बारहवीं बरसी से एक दिन पहले बुधवार को कैपिटल हिल में भारतीय-अमेरिकियों ने प्रदर्शन किया। यहां एक ट्रक पर कई सारे बिलबोर्ड चिपकाए गए थे जिन पर 'वी डिमांड जस्टिस' लिखा था। ये ट्रक पाकिस्तान और तुर्की दूतावासों के बाहर नजर आए। बता दें कि 12 साल पहले हुए इस आंतकी हमले में 166 लोगों की मौत हुई थी जबकि करीब 300 लोग घायल हुए थे। इस दौरान आतंकियों ने मुंबई के ताज होटल समेत विभिन्न स्थानों को निशाना बनाया था। 60 घंटे तक इन जगहों को आतंकियों ने बंधक बनाए रखा था। 

प्रदर्शनकारी हाथों में पाकिस्तान के खिलाफ बैनर लिए 'हम न्याय चाहते हैं' के नारे लगाते नजर आए। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि 12 साल गुजर गए लेकिन पाकिस्तान ने मुंबई हमले की योजना बनाने वालों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। 

इनमें से एक प्रदर्शनकारी ने कहा, 'हम यहां 26/11 की बारहवीं बरसी पर इकट्ठा हुए हैं, जब पाकिस्तान से आए अतांकियों ने बेकसूर लोगों को मौत के घाट उतार दिया था। इस हमले में छह अमेरिकी भी शामिल थे। वो बस अमेरिकियों का पासपोर्ट देख रहे थे और उनको मार रहे थे।'

उन्होंने कहा कि अगले प्रशासन से आग्रह है कि पाकिस्तान या अफगानिस्तान को कोई आर्थिक मदद ना दी जाए, जब तक कि इस घटना के अपराधियों के खिलाफ पाकिस्तान कोई कड़ी कार्रवाई नहीं करता है।

अमेरिका ने कहा, आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत के साथ

अमेरिकी विदेश मंत्रालय के साउथ एंड सेंट्रल एशियन अफेयर्स ऑफ स्टेट डिपार्टमेंट यूएस ब्यूरो ने कहा है कि अमेरिका आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत के साथ है। ब्यूरो ने ट्वीट करके कहा, '26/11 मुंबई हमले की 12वीं बरसी पर अमेरिका भारत के साथ किए गए पीड़ितों (जिसमें छह अमेरिकी भी शामिल थे) को न्याय दिलाने के वादे को फिर से दोहराता है। हम अपने भारतीय सहभागियों के साथ आतंकवाद के खिलाफ दृढ़ता से खड़े हैं।'

Edited By: Neel Rajput