संवाद सूत्र, रायगंज : गणतांत्रिक अधिकार के लिए पत्रकारों ने चुनाव आयोग के पास वैकल्पिक मतदान की मांग रखी है। उत्तर बंगाल व सिक्किम के पत्रकार चाहते हैं कि चुनाव कार्य में व्यस्त कर्मचारी की तरह वे भी वैकल्पिक मतदान करने का सुयोग पोस्टल बेलोट के द्वार प्राप्त हो। इसे लेकर कांफेडरेशन ऑफ नॉर्थ बंगाल एंड सिक्किम जर्नलिस्टस के अध्यक्ष अलिप मित्र ने पिश्चम बंगाल के राज्य चुनाव आयोग को डाक के माध्यम से सोमवार को पत्र भेजा।

अध्यक्ष अलिप मित्र ने बताया कि पत्रकारिता भारतीय गणतांत्रिक व्यवस्था का अहम हिस्सा है। चुनाव के दिन व उसके ठीक पूर्व एवं पश्चात चुनावी प्रक्रिया का कवरेज करने के लिए पत्रकारा एवं छायाकार दिन-रात व्यस्त रहते है। अपने क‌र्त्तव्य के निर्वाहन में पत्रकारों को मतदान के दिन घर से दूर काम करना पड़ता है, जिसके चलते उन्हें खुद का मतदान अनिश्चित हो जाता है। जबकि चुनाव आयोग इस बात को सुनिश्चित करना चाहती है कि हरेक मतदाता अपने मदान के अधिकार का प्रयोग किया हो। इसलिए फिलहाल पत्र के माध्यम से आयोग का ध्यान आकृष्ट किया गया है। जरूरत हुई तो संगठन की ओर से प्रतिनिधि मंडल चुनाव आयोग से रूबरू होकर अपना पक्ष रखेंगे। संगठन के सदस्यों ने इस पदक्षेप की सराहना की है और इस मुद्दे को देश व्यापी छेड़ने की अपेक्षा की है।

Posted By: Jagran