राज्य ब्यूरो, कोलकाता : एक तरफ तृणमूल नेता कह रहे हैं कि भाजपा छोड़ने वाले नेता मेल और वाट्सएप कर गुहार लगा रहे हैं। वहीं दूसरी ओर भाजपा कार्यकर्ताओं व नेताओं पर लगातार हमले हो रहे हैं और उन्हें तृणमूल में लौटने के लिए धमकाया जा रहा है। इसी कड़ी में महानगर से दक्षिण 24 परगना जिले के एक तृणमूल नेता ने फरमान जारी किया है कि जो तृणमूल का झंडा फिर से नहीं थामेगा, उसे उसे मनरेगा का 100 दिनों का काम नहीं दिया जाएगा।

दक्षिण 24 परगना के भांगड़ के तृणमूल कांग्रेस नेता और भोगली दो ग्राम पंचायत के प्रमुख मोदसेर हुसैन के इस फरमान से इलाके में हंगामा मच गया है और तृणमूल नेता के बयान को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं। वह सोमवार दक्षिण 24 परगना के भांगड़ के कठलिया में पार्टी कार्यालय के उद्घाटन के दौरान उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने लिफाफा लेकर वोट दिया है और अभी तक तणमूल में शामिल नहीं हुए हैं। उन्हें फुरफुरा में जाकर काम करने दें, भोगली में उनके लिए कोई काम नहीं है।

तृणमूल में शामिल होने पर कोई समस्या नहीं होगी, फिर चुनाव आएगा और वह फिर से एक लिफाफे के साथ घूमेगा। बता दें कि भांगड़ विधानसभा क्षेत्र में आइएसएफ ने तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार को पराजित किया है। फुरफुरा शरीफ पीरजादा अब्बास सिद्दीकी के भाई पीरजाजा नौशाद सिद्दीकी विधायक बने हैं।

विधायक नौसाद सिद्दीकी ने कहा कि इस तरह की टिप्पणी किसी जनप्रतिनिधि के लिए वांछनीय नहीं है। सबको काम करना है। मैं उच्च अधिकारियों को सूचित करूंगा।

Edited By: Vijay Kumar