राज्य ब्यूरो, कोलकाता। बंगाल में 100 से अधिक नगर निकायों के चुनाव में बैलेट पेपर की वापसी हो सकती है। इस बाबत प्रशासनिक स्तर पर प्राथमिक तौर पर विचार-विमर्श हो चुका है। गौरतलब है कि बंगाल में सत्ताधारी दल तृणमूल कांग्रेस पिछले लोकसभा चुनाव के समय से ही इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) के जरिए मतदान की व्यवस्था को खत्म करने की मांग करती आ रही है। इस बाबत पार्टी की तरफ से केंद्रीय चुनाव आयोग को ज्ञापन भी सौंपा जा चुका है।

तृणमूल का आरोप है कि ईवीएम के माध्यम से होने वाले मतदान में भाजपा काफी धांधली करती है। बंगाल की मुख्यमंत्री व तृणमूल सुप्रीमो ममता बनर्जी ने पिछले विधानसभा चुनाव के समय ही राज्य चुनाव आयोग की छत्रछाया में होने वाले सभी चुनावों को बैलेट से कराने के संकेत दिए थे और अब उसी दिशा में बढ़ने की तैयारी की जा रही है। सूत्रों से पता चला है कि राज्य चुनाव आयोग के अधिकारियों के साथ राज्य सरकार की इसे लेकर बातचीत हो चुकी है।

कोलकाता नगर निगम समेत 117 नगर निकायों का चुनाव होना है। 2015 से नगर निकायों का चुनाव ईवीएम के जरिए होता आ रहा है, हालांकि बंगाल में पंचायत का चुनाव अभी भी बैलेट पेपर से ही हो रहा है। तृणमूल के एक नेता ने नाम प्रकाशित नहीं करने की शर्त पर बताया कि राज्य सरकार की इच्छा होने पर भी प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बातचीत करके ही अंतिम निर्णय लिया जाएगा क्योंकि बैलेंट पेपर की व्यवस्था को बहाल करने में उन्हें महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी। 

Edited By: Priti Jha