राज्य ब्यूरो, कोलकाता। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की देश के सभी जिलाधिकारियों (डीएम) के साथ हुई बैठक में बंगाल के अधिकारियों के शामिल नहीं होने पर भाजपा विधायक और विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी ने चिंता जताई है।उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को इस संबंध में पत्र लिखा है और ऐसे अधिकारियों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने का आग्रह किया है। सुवेंदु ने इस संबंध में ट्विटर पर जानकारी दी।

उन्होंने लिखा - मैंने माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी को एक पत्र लिखा है। 22 जनवरी को उनकी अध्यक्षता में हुई वर्चुअल बैठक में बंगाल के जिलाधिकारियों के भाग न लेने के संबंध में अपनी चिंता व्यक्त की है। इस बैठक में पूरे देश के 190 जिलों के डीएम/कलेक्टर शामिल हुए थे। लेकिन बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और उनके डीएम शामिल नहीं हुए। आखिर कब तक बंगाल की सत्ताधारी पार्टी केंद्र पर अभाव का आरोप लगाकर जनता को गुमराह करती रहेगी?

गौरतलब है कि शनिवार 22 जनवरी को पीएम मोदी ने देश के जिला अधिकारियों के साथ प्रशासनिक मामलों पर बातचीत की थी। लेकिन इस बैठक में बंगाल के जिला अधिकारी शामिल नहीं हुए। इसे लेकर भाजपा नेताओं ने ममता बनर्जी सरकार को आड़े हाथों लिया है। पीएम मोदी ने इस बैठक में देश के 142 पिछड़े जिलों में सुधार पर जोर दिया था। उन्होंने कहा कि सरकार ने 142 जिलों की पहचान की है, जो विकास में इतने पीछे नहीं हैं, लेकिन जिन एक-दो पैरामीटर्स पर ये अलग-अलग 142 जिले पीछे हैं, अब वहां पर भी हमें उसी कलेक्टिव अप्रोच के साथ काम करना है, जैसे हम आकांक्षी जिलों (एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट) में करते हैं। 

Edited By: Priti Jha