कोलकाता, जागरण संवाददाता। दक्षिण 24 परगना जिले के बारुईपुर थानांतर्गत निश्चिंतपुर हरिजन पल्ली में 15 वर्षीय किशोरी से महीनों सामूहिक दुष्कर्म और रंगे हाथ पकड़े जाने से अपमानित किशोरी द्वारा खुदकशी किए जाने का मामला सामने आया है। वह कक्षा सातवीं की छात्र थी।

मृतका की मां की शिकायत पर पुलिस ने दो आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है। उनके नाम लालचांद सिपाई और शेख इमरान हैं। दोनों मुख्य आरोपित बताए जा रहे हैं। इनके खिलाफ पोक्सो एक्ट के तरह मामला दर्ज किया गया है। इस घिनौने कुकृत्य में दो और लोग शामिल थे, जो घटना के बाद से फरार बताए जा रहे हैं। पुलिस मामला दर्ज कर उनकी तलाश में जुट गई है।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक हरिजन पल्ली निवासी किशोरी अपनी मां के साथ किराए के मकान में रहती थी। उसकी मां नगरपालिका में सफाई कर्मी थी। उसका आरोप है कि इमरान और लालचांद ने उसकी बेटी के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। इसकी सूचना किसी को देने पर जान से मारने और घर से निकालने की धमकी देकर मुंह बंद करा दिया। जब बेटी ने किसी को कुछ नहीं बताया, तो उनका मनोबल बढ़ गया और बार-बार सामूहिक दुष्कर्म करने लगे।

इस कार्य में इमरान की पत्नी और मकान मालिक महिउद्दीन मंडल भी उनकी मदद करते थे। एक दिन सामूहिक दुष्कर्म करते रंगे हाथ पकड़े गए। तब लोगों ने उसकी बेटी को ही चरित्रहीन करार दिया। बार-बार दुष्कर्म और पकड़े जाने से अपमानित होकर उसने शुक्रवार को घर में ही आग लगा ली।

गंभीर रुप से झुलसे हालत में उसे पहले बारुईपुर महकमा अस्पताल ले जाया गया, जहां हालत गंभीर देख कोलकाता के एमआर बांगुर अस्पताल रेफर कर दिया गया, जहां उसकी मौत हो गई। हालांकि मरने से पहले उसने अपने साथ हुए ज्यादती की पूरी जानकारी विस्तार से दे दी। इसके बाद ही आरोपितों के खिलाफ थाने में शिकायत दर्ज कराई।

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप