Move to Jagran APP

Bengal News: दुष्कर्म पीड़िता की हिम्मत को सलाम, बिहार के बाद बिजनौर में बिकी, कई बार हुआ दुष्कर्म, सदमे से उबरकर 12वीं की पास

पीडि़ता रेलवे स्टेशन के एक कोने में मिली जो सदमे में थी। वे उसे वापस बंगाल लेकर आए। वह सदमे के कारण बात भी नहीं कर पा रही थी और एक महीने से अधिक समय तक चुप रही। अब वह नए हिम्‍मत के साथ नए जीवन की शुरुआत कर रही।

By Sumita JaiswalEdited By: Published: Mon, 01 Aug 2022 06:32 PM (IST)Updated: Mon, 01 Aug 2022 06:32 PM (IST)
कालेज जाने की तैयारी कर रही पीडि़ता, सांकेतिक तस्‍वीर।

कोलकाता, राज्य ब्यूरो। तीन बार बेचे जाने और कई बार दुष्कर्म का शिकार होने के सदमे से उबरने की कोशिश कर रही 22 साल की एक युवती ने बंगाल में उच्चतर माध्यमिक परीक्षा पास की है। अब वह कालेज जाने के लिए तैयारी कर रही है। पश्चिम बंगाल सीआइडी के एक अधिकारी ने बताया कि जब वह किशोरी थी, जब मानव तस्करों ने चार महीनों में अलग-अलग राज्यों में उसे तीन बार बेचा और इस दौरान कई पुरुषों ने उससे दुष्कर्म किया।

loksabha election banner

अधिकारी ने कहा कि मई 2015 में बचाई गई पीडि़ता सरकारी आश्रय घर में रह रही है और उसे नया जीवन शुरू करते देखकर खुशी होती है। साड़ी की एक दुकान में काम करने वाले पीडि़ता के पिता ने कहा कि परिवार अब उसके विवाह के लिए सही व्यक्ति की तलाश कर रहा है। राज्य में सीआइडी की एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट के एक अधिकारी ने बताया कि पीडि़ता की सात जनवरी, 2015 को कोलकाता की साइंस सिटी में राहुल से मुलाकात हुई, जो उसे बिहार की बस पकडऩे के लिए बाबूघाट ले गया। लेकिन वह उसे वापस लौटने का वादा कर, बस में अकेला छोड़ गया और पीडि़ता को बाद में पता चला कि राहुल ने उसे डेढ़ लाख रुपये में किसी अन्य व्यक्ति को बेच दिया था।

बिहार के बाद यूपी के बिजनौर में बेची गई :

अधिकारी ने बताया कि राहुल का मित्र होने का दावा करने वाला व्यक्ति उसे बाद में ट्रेन से बिहार लेकर गया और उसने उसे कमल नाम के एक अन्य व्यक्ति को बेच दिया, जो पीडि़ता को उत्तर प्रदेश के बिजनौर में चित्रा नाम की एक महिला के पास लेकर गया। उन्होंने बताया कि पीडि़ता को खरीदने वाली तीसरी व्यक्ति चित्रा ने उसकी अपने 45 साल के भाई से जबरन शादी करा दी। इसके बाद चित्रा के बेटे लव ने कई बार पीडि़ता से दुष्कर्म किया। अधिकारी ने कहा कि इसी बीच पीडि़ता को चित्रा के मोबाइल फोन से अपनी मां को फोन करने का मौका मिल गया और उसने उसे बताया कि वह कहां है।

पीडि़ता से कई बार दुष्कर्म :

पश्चिम बंगाल पुलिस ने राहुल को बिहार में गिरफ्तार कर लिया। सीआइडी अधिकारी ने बताया कि चित्रा डर गई और उसने कमल से नाबालिग पीडि़ता को ले जाने को कहा। इसके बाद कमल और उसका सहयोगी भीष्म उसे उत्तराखंड के काशीपुर ले गए। उन्होंने बताया कि जब कमल और भीष्म को पता चला कि चित्रा और लव को गिरफ्तार कर लिया गया है, तो उन्होंने गुस्से में पीडि़ता से कई बार दुष्कर्म किया और वे उसे काशीपुर जंक्शन रेलवे स्टेशन पर छोडक़र चले गए।

रेलवे स्टेशन के एक कोने में मिली पीडि़ता :

सीआइडी अधिकारी ने बताया कि उन्हें और उनके दल को पीडि़ता रेलवे स्टेशन के एक कोने में मिली, जो सदमे में थी। वे उसे वापस बंगाल लेकर आए। उन्होंने कहा कि वह सदमे के कारण बात भी नहीं कर पा रही थी और एक महीने से अधिक समय तक चुप रही। हमें उसे मनोचिकित्सक के पास ले जाना पड़ा और काउंसलिंग के कई सत्रों के बाद उसने अपनी पीड़ा बताई।

दोषियों को मिली सजा :

सीआइडी अधिकारियों ने एक महिला, पीडि़ता के प्रेमी राहुल समेत छह आरोपितों को बिहार, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड से गिरफ्तार किया। पीडि़ता को उत्तराखंड में बचाया गया था। उत्तर 24 परगना जिले के बारासात में पॉक्सो अदालत ने छह आरोपितों को दोषी ठहराया। इनमें से चित्रा और राहुल को दस-दस साल कैद और चित्रा के भाई कमल, लव, भीष्म और एक अन्य दोषी को 20-20 साल कैद की सजा सुनाई गई।


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.