कोलकाता, राज्य ब्यूरो। बंगाल में हुगली के चंदननगर कमिश्नेट के खुफिया विभाग की पुलिस ने चुंचुड़ा थाना क्षेत्र के बंडेल ग्रीन पार्क इलाके में स्थित एक अपार्टमेंट में अभियान चलाकर छह बांग्लादेशी नागरिकों को गिरफ्तार किया है। इनके पास से पुलिस ने भारतीय आधार कार्ड, वोटर कार्ड, पैन कार्ड तथा बांग्लादेशी सिम भी बरामद किया है। पुलिस सूत्रों के अनुसार, एक खुफिया सूचना के आधार पर कार्रवाई करते हुए शुक्रवार देर रात छापेमारी कर बांग्लादेशी नागरिकों को पकड़ा गया। पकड़े बांग्लादेशियों से कमिश्नेट के आला अधिकारी पूछताछ कर रहे हैं। ये सभी बांग्लादेश के नारायणगंज जिले के रहने वाले बताए गए हैं। ये लोग बांग्लादेश से भारत कैसे और कब पहुंचे और यहां से कहां जाने की तैयारी थी, पुलिस इसकी तफ्तीश कर रही है। पुलिस का प्राथमिक अनुमान है कि नौकरी के लिए इन लोगों को फर्जी दस्तावेज की मदद से यहां से विदेश भेजने की तैयारी थी।

जानें, कैसे हुई गिरफ्तारी

शुक्रवार देर रात खुफिया विभाग के अधिकारियों ने गोपनीय सूचना के आधार पर बंडेल के ग्रीन पार्क अपार्टमेंट में छापामारी की। इस दौरान यहां रह रहे सभी छह बांग्लादेशी पुलिस के हत्थे चढ़ गए। इसके बाद उन्हें पुलिस थाने ले गई। पुलिस का कहना है कि जिस फ्लैट से इन लोगों को गिरफ्तार किया गया है, वह आकाश दास के नाम पर है।  आकाश उत्तर 24 परगना जिले के हालीशहर इलाके का रहने वाला है। पुलिस को संदेह है कि आकाश दास ही इन लोगों को यहां लाकर रखा था। पुलिस आकाश की तलाश कर रही है। 

गौरतलब है कि इससे पहले सितंबर में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर घुसपैठ की बड़ी कोशिशों को नाकाम करते हुए तीन अलग-अलग स्थानों से 17 बांग्लादेशी नागरिकों को गिरफ्तार किया था। इनमें ज्यादातर बांग्लादेशी नागरिक अवैध तरीके से सीमा पार कर भारत में घुसने की कोशिश कर रहे थे, तो कुछ वापस बांग्लादेश लौट रहे थे। बीएसएफ के दक्षिण बंगाल फ्रंटियर के प्रवक्ता ने शनिवार को एक बयान जारी कर बताया कि इनमें 99वीं वाहिनी की सीमा चौकी रनघाट इलाके से छह बांग्लादेशी नागरिकों को पकड़ा गया। 158वीं और 118वीं वाहिनी के जवानों ने 11 बांग्लादेशी नागरिकों को पकड़ा। इनमें चार पुरुष पांच महिला तथा दो बच्चे शामिल है। पकड़े गए बांग्लादेशियों में से कुछ ने पूछताछ में काम की तलाश में तो कुछ ने इलाज के सिलसिले में भारत आने का दावा किया। इनमें से ब्लड कैंसर से पीड़ित एक बांग्लादेशी नागरिक को बीएसएफ ने मानवीय आधार पर सद्भावना के रूप में बार्डर गार्ड बांग्लादेश (बीजीबी) को सौंप दिया, जबकि बाकी को आगे की कानूनी कार्रवाई के लिए संबंधित पुलिस थाने के हवाले कर दिया।

Edited By: Sachin Kumar Mishra