जागरण संवाददाता, कोलकाता : भारतीय रेलवे में पहली बार ऐसा होगा जब ऑन लाइन ई-कामर्स प्लेटफार्म अमेजन का सामान ईएमयू (इलेक्ट्रिक मल्टीपल यूनिट) ट्रेन के वेंडर कोच से जाएगा। इसके लिए पूर्व रेलवे और अमेजन के बीच समझौता हुआ है। यह सेवा तीन माह के लिए पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर सियालदह और डानकुनी के बीच शुरू होगी। हालांकि अमेजन को सामान ले जाने की सुविधा व्यस्त समय से हटकर मिलेगी। इस प्रोजेक्ट से रेलवे की आय बढ़ने के साथ ही अमेजन को सामान ले जाने में समय की बचत भी होगी।

जानकारी के अनुसार कम समय में सामान को ले जाने के लिए ऑनलाइन ई-कामर्स प्लेटफार्म अमेजन के आवेदन पर मंथन करने के बाद पूर्व रेलवे ने सियालदह डिवीजन में पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर तीन माह के लिए करार किया है। इसके तहत सियालदह से डानकुनी तक ईएमयू ट्रेन के वेंडर कोच में अमेजन को प्रतिदिन अधिकतम सात मीट्रिक टन सामान ले जाने की छूट होगी। हालांकि सामान ले जाने की अनुमति व्यस्त समय पर नहीं होगी। बल्कि पूर्वाह्न 11 बजे से शाम चार बजे तक सामान ले जाया जा सकेगा। रेल प्रशासन द्वारा अमेजन के समक्ष मौजूदा सिस्टम में बाधा उत्पन्न नहीं करने की भी शर्त रखी गई है। ताकि कंपनी के लिए किसी यात्री को परेशानी से नहीं जूझना पड़े। रेलवे के अनुसार अमेजन को सामान ले जाने के एवज में अधिकतम लगेज चार्ज यानी प्रतिदिन 5537 रुपये का भुगतान भी करना होगा। इस पहल से रेलवे को आय होने के साथ ही अमेजन को भी सामान ले जाने में समय की बचत होगी। रेल सूत्रों के अनुसार पायलट प्रोजेक्ट में सफलता मिलने पर आवेदन करने वाली अन्य ई-कामर्स कंपनियों को भी यह सुविधा मुहैया कराई जाएगाी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप