राज्य ब्यूरो, कोलकाता : दुर्गा पूजा के बाद बंगाल में कोरोना वायरस का संक्रमण काफी बढ़ने की आशंका जताई जा रही है। चिकित्सकों से लेकर विशेषज्ञों की इस आशंका के बीच कलकत्ता हाई कोर्ट में दुर्गा पूजा उत्सव पर रोक लगाने को लेकर एक मामला भी दायर किया गया है।

सवाल उठे जब गणेश पूूूूजाघर में तो दुर्गा पूजा क्यों?    

इसके अलावा कई लोगों ने इस बात पर भी सवाल उठाए हैं कि जब ईद से लेकर गणेश पूजा को बंद रखा गया तो दुर्गा पूजा का आयोजन क्यों हो रहा है। इन विवादों के बीच राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को फिर स्पष्ट किया कि हम दुर्गा पूजा को बंद नहीं कर सकते हैं।

पारिवारिक ही नहीं ये क्लब व कमेटियों का भी पर्व

उन्होंने कहा कि इस पूजा को बंद करना ठीक नहीं है। इस दिन दक्षिण बंगाल के जिलों में दुर्गा पूजा के आयोजनों का ऑनलाइन उद्घाटन के मौके पर ममता ने कहा कि रमजान, ईद व गणेश पूजा घर में बैठकर किया जा सकता है। लेकिन मां दुर्गा का बहुत बड़ा संसार है। यह जो पूजा है वह पारिवारिक ही नहीं ये क्लब व कमेटियों का भी है।

सभी लोग मास्क व सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें

इस पूजा से बहुत बड़े स्तर पर लोग जुड़े हुए हैं और यह बंगाल का सबसे बड़ा त्यौहार भी है, इसीलिए हम इस पर रोक नहीं लगा सकते हैं। मुख्यमंत्री ने इस दौरान कहा कि सभी लोग मास्क व सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें। उन्होंने सभी लोगों से कोविड-19 के प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन करने की अपील की।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021