जागरण संवाददाता, कोलकाता : एनसीसी के पश्चिम बंगाल और सिक्किम निदेशालय के कैडेटों ने शुक्रवार को पुनीत सागर अभियान के तहत नदियों व जल निकायों को स्वच्छ रखने के लिए कोलकाता के बाबूघाट में हुगली (गंगा) नदी के किनारे विशेष सफाई अभियान चलाया। इस अभियान में तीनों सेनाओं से जुड़े 150 से अधिक कैडेटों समेत एनजीओ नेहरू युवा केंद्र, कोलकाता और आल इंडिया हेल्पिंग केयर के स्वयंसेवकों और केएमसी ने हिस्सा लिया। नदी तट से सटे बाबूघाट, इमर्सन घाट, ईडन गार्डन रेलवे स्टेशन और आसपास के क्षेत्रों की सफाई कर कैडेटों ने जबर्दस्त उत्साह और परिश्रम दिखाया।

इस सफाई अभियान में कई विशिष्ट हस्तियों ने भी कैडेटों के साथ हाथ बंटाया। इसमें मुख्य अतिथि के रूप में प्रसिद्ध उद्योगपति व कनफेडरेशन आफ वेस्ट बंगाल ट्रेड एसोसिएशर के प्रेसिडेंट सुशील पोद्दार, महान जादूगर पीसी सरकार की पौत्री और बांग्ला फिल्म व टीवी सितारे मौबानी सरकार, हनी बाफना मौजूद थे।

इन अतिथियों ने भी झाड़ू उठाकर कैडेटों के साथ सफाई में हिस्सा लिया और लोगों में स्वच्छता के प्रति जागरूकता का संदेश दिया। अतिथियों ने कैडेटों के प्रयासों की सराहना की। कार्यक्रम में एनसीसी निदेशालय के ब्रिगेडियर एचकेएस बाथ समेत विभिन्न बटालियों के कमांडिंग आफिसर व अन्य अधिकारीगण मौजूद थे।

अधिकारियों ने बताया कि इस अभियान में कैडेटों ने 700 किलोग्राम से अधिक कचरे एकत्रित किए और इसे रिसाइक्लिंग व निपटान के लिए भेजा। इस अवसर पर बाबूघाट पर एनसीसी कैडेटों द्वारा प्लास्टिक अपशिष्ट पदार्थो से बनाई गई सजावटी वस्तुओं की प्रदर्शनी भी लगाई गई।

इस अवसर पर बोलते हुए सुशील पोद्दार ने स्वच्छ भारत अभियान, पुनीत सागर अभियान व प्लास्टिक का उपयोग नहीं करने जैसी गतिविधियों के बारे में जनता के बीच जागरूकता संदेश फैलाने में एनसीसी के प्रयासों की सराहना की। इस अवसर पर मौबानी सरकार ने कहा कि एनसीसी कैडेट जो कर रहे हैं वह भी जादू की तरह है, जिसका संदेश दुनियाभर में फैल रहा है।

उल्लेखनीय है कि पुनीत सागर अभियान एनसीसी द्वारा एक दिसंबर 2021 को शुरू किया गया था। पहले महीनों में ही चार लाख से अधिक कैडेटों ने इसमें भाग लिया था और तटीय क्षेत्रों से लगभग 19 टन प्लास्टिक कचरा एकत्रित किया था, जिसका स्थानीय लोगों के साथ पर्यटकों ने जबर्दस्त स्वागत किया था।

इस अभियान के तहत पूरे वर्ष भर कैडेटों ने देशभर में समुद्र तटों, नदियों एवं अन्य जल निकायों को साफ सुथरा रखने एवं इस बारे में आम लोगों को जागरूक करने के लिए अभियान चलाया।

अधिकारियों ने बताया कि अकेले बंगाल में 20 हजार से अधिक कैडेटों और एनसीसी से जुड़े पूर्व छात्रों ने राज्यभर में 56 जल निकायों में कार्यक्रम आयोजित कर सफाई अभियान चलाया, जिसमें 8,000 किलोग्राम से अधिक प्लास्टिक कचरा एकत्रित किया गया और इसमें से करीब 4,000 किलोग्राम कचरे को रिसाइक्लिंग किया गया।