-गैर मजहब के युवक से कर बैठी थी प्यार, शादी के लिए रजामंद नहीं थे परिजन

-मृतका के शरीर पर मिले मोबाइल नंबर से हत्यारोपित तक पहुंची पुलिस

-पूर्व ब‌र्द्धमान के जमालपुर में युवती की लाश मिलने का मामला

जागरण संवाददाता, कोलकाता : झूठी शान के लिए एक बार फिर ऑनर किलिंग जैसी वारदात को अंजाम दे दिया गया। गैर मजहब के युवक संग प्यार कर बैठी युवती शादी की जिद पर अड़ गई थी। परिजन इसके लिए रजामंद नहीं हुए तो 2 मर्तबा घर छोड़कर प्रेमी के साथ चली गई थी। बहला फुसला कर बेटी को घर लाकर पिता और भाई ने उसकी हत्या की साजिश रच डाली थी। इसके बाद बेटी को मौत के घाट उतार कर लाश को दूसरे जिले में फेंक दिया था। लेकिन मृतका के शरीर पर लिखे मिले मोबाइल नंबर ने पुलिस को हत्यारोपितों का सुराग दे दिया। पुलिस ने बाप-बेटे को गिरफ्तार कर हत्या का खुलासा कर दिया। सूत्रों के अनुसार गत 31 अगस्त को पूर्व ब‌र्द्धमान के जमालपुर स्थित नवग्राम में नेशनल हाइवे के किनारे 19 वर्षीय एक युवती की लाश मिली थी। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था। लेकिन मृतका की शिनाख्त नहीं हो पाने की वजह से पुलिस भी दुविधा में थी। इसी बीच डोम ने ऐसा सुराग दिया की पुलिस की राह आसान हो गई। मृतका के हाथ पर 2 मोबाइल नंबर लिखे हुए थे। उक्त एक नंबर पर संपर्क साधा गया तो मुंबई में कार्यरत एक युवक ने उठाया। इसके बाद पुलिस की एक टीम मृतका का फोटो लेकर मुंबई पहुंची तो युवक ने शिनाख्त कर कई और सुराग दे दिए। पता चला कि बिहार के मुजफ्फरपुर अंतर्गत इलादाद गांव निवासी जहाना खातून (19) का गैर मजहब के उक्त युवक के साथ कई वर्षो से प्रेम संबंध था। इसकी भनक लगते ही युवती का परिवार बाधा बनकर खड़ा हो गया था। शादी को रजामंद नहीं होने पर युवती प्रेमी के साथ फरार हो गई थी। परिजन किसी तरह उसे वापस ले आए थे। पारिवारिक बंदिश प्यार को रोक नहीं पाई और एक बार फिर युवती घर छोड़कर चली गई। लेकिन इस दफा कोलकाता के पार्क सर्कस में रहने वाले पेशे से वाहन चालक पिता मोहम्मद मुस्ताक उर्फ मुस्तफा तथा भाई मोहम्मद जाहिद युवती को समझा बुझाकर मुजफ्फरपुर स्थित घर ले जाने की बजाए कोलकाता ले आए थे। मुंबई से मिले सुराग को आधार जांच शुरू करते हुए पुलिस ने पार्क सर्कस से पिता और भाई को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में सख्ती बरती गई तो दोनों आरोपित टूट गए और जहाना खातून की हत्या करने का जुल्म कबूल कर लिया। पूछताछ में पता चला कि 31 अगस्त को गाड़ी से जहाना को लेकर बाप-बेटा ब‌र्द्धमान के लिए रवाना हुए थे। रात में जमालपुर के पास गला घोंट कर उसकी हत्या कर दी थी। इसके बाद नेशनल हाइवे पर सड़क किनारे उसे एक सुनसान जगह पर ले गए थे। मौत सुनिश्चित करने के लिए उसके सिर पर भारी पत्थर से प्रहार किया गया था। इसके बाद शव को नवग्राम के पास फेंककर दोनों फरार हो गए थे। गिरफ्तारी के बाद भी दोनों को बेटी की हत्या का अफसोस नहीं था। पिता ने कहा कि बेटी की करतूत से गांव में मान सम्मान को ठेस पहुंच रही थी। इसके लिए बेटी को सजा दे दी। पुलिस ने दोनों आरोपितों को अदालत में पेश किया।

Posted By: Jagran