कोलकाता, जागरण संवाददाता। Murder Of Old Woman. गडि़याहाट थानांतर्गत टूपी गड़चा रोड में एक वृद्ध महिला की गला काट कर हत्या कर दिए जाने की घटना प्रकाश में आई है। आरोपितों ने सिर काट कर धड़ से अलग कर दिया है। महिला की पहचान उर्मिला झूंट के रूप में हुई है। 65 वर्षीय उर्मिला गडि़याहाट टूपी गड़चा रोड स्थित दो मंजिले मकान में रहती थी। गुरुवार सुबह घर का दरवाजा तोड़ कर खून से लथपथ शव बरामद हुआ। घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। साथ ही, हत्या का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। प्राथमिक पड़ताल के आधार पर पुलिस का मानना है कि डकैती के इरादे से ही वृद्धा की हत्या की गई है।

पड़ोसियों की मदद से हुआ खुलासा

वृद्धा घर में अकेली थी। बुधवार रात 10.30 बजे वृद्धा की नातिन खाना देने गई थी। उसके बाद से घर के किसी सदस्या का उर्मिला से कोई बात नहीं हुई। गुरुवार को काफी देर तक दरवाजा नहीं खुला, तो लोगों को संदेह हुआ। इस दिन नौकरानी खाना देने पहुंची, तो दरवाजा बंद मिला। खिड़की से झांकी, तो घर में पूरा सामान बिखरा था और खून से लथपथ वृद्धा का शव खाट पर औंधे मुंह पड़ा था। नौकरानी ने शोर मचा कर लोगों को एकत्र किया। तुरंत इसकी सूचना पुलिस को दी गई। कुछ देर में ही पुलिस मौके पर पहुंच गई और दरवाजा तोड़ कर शव बाहर निकाला गया। वृद्धा का सिर धड़ से अलग था। पेट और शरीर के अन्य हिस्से पर भी धारदार हथियार से हमले के निशान थे। शरीर पर धक्का मुक्की के भी चिन्ह थे।

अकेलापन बना काल

इंद्रनील चंद्र नामक पड़ोसी बताया कि उर्मिला के पति का वर्षों पहले निधन हो चुका है। कुछ माह पहले बड़े बेटे की भी मौत हो चुकी है। वह एक अन्य बेटे, बहू, नाती और नातिन के साथ रहती थी। पर दो दिनों से वे भी घर में नहीं थे। वह दो मंजिला मकान में अकेले ही रह रही थी। यही उनके लिए काल बन गया। हत्यारों ने इसी का लाभ उठा कर उनकी हत्या कर दी। पड़ोसियों की मानें तो वृद्धा के शरीर से आभूषण भी गायब थे।

फॉरेंसिक टीम ने लिया नमूना

वृद्धा की मौत के बाद इस दिन पुलिस के साथ ही फॉरेंसिक और होमिसाइड विभाग की टीम खोजी कुत्ते के साथ मौके पर पहुंची। फॉरेंसिक टीम ने घटनास्थल से नमूना संग्रह किया।

पुलिस की भूमिका से लोग नाराज

लोगों का आरोप है कि इलाके में रात में लाइट नहीं रहती है। बाहरी लोगों का आना जाना और आपराधिक गतिविधियां भी बढ़ गई है। सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम नहीं है। इन समस्याओं को लेकर इसे लेकर चार दिसंबर को गडि़याहाट थाने में डेपुटेशन देने की कोशिश की गई थी, लेकिन तब पुलिस ने उसे स्वीकार नहीं किया था।

बंगाल की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस