जागरण संवाददाता, कोलकाता। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे ने बुधवार को राज्य सचिवालय नवान्न में तृणमूल प्रमुख व मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात की। दोनों नेताओं के बीच हुई बैठक में चुनावों में ईवीएम के बजाय बैलेट इस्तेमाल के मुद्दे को लेकर चर्चा हुई। राज ने ममता को 21 अगस्त को मुंबई में ईवीएम के खिलाफ आयोजित होने वाली लोकतंत्र बचाओ रैली का हिस्सा बनने के लिए आमंत्रित भी किया है।

मुलाकात के बाद बाहर साझा प्रेस कांफ्रेंस में पत्रकारों से मुखातिब ममता ने कहा कि तृणमूल लोकतंत्र की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि राज ने हमें 21 अगस्त को मुंबई आने का न्योता दिया है लेकिन अभी उपस्थिति को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं है और इस पर पहले से प्रस्तावित कार्यक्रमों को देखने के बाद अंतिम निर्णय लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि जापान, अमेरिका, इंग्लैंड जैसे देश ईवीएम का इस्तेमाल नहीं करते तो फिर हम क्यों करते हैं? लोकसभा चुनाव के पहले भी 23 विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग से बैलेट से चुनाव कराने का मांग रखा, हम सुप्रीम कोर्ट तक गए हैं और ईवीएम हटाने को लेकर हमारी लड़ाई जारी रहेगी।

वहीं, राज ने कहा कि ममता से उनकी मुलाकात चुनावों में ईवीएम के इस्तेमाल के मुद्दे पर थी। इस दौरान राज ने यह भी कहा कि उन्हें कोर्ट और चुनाव आयोग पर भरोसा नहीं है। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी ने मुझसे कहा है कि उनकी पार्टी लोकतंत्र की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध हैं और वे इस लड़ाई में हमारे साथ हैं। वहीं जब राज से यह पूछा गया कि क्या वह ईवीएम के खिलाफ कोर्ट जाएंगे तो राज ने कहा कि मुझे हाई कोर्ट, सुप्रीम कोर्ट और इलेक्शन कमिशन से कोई उम्मीद नहीं है। एक सवाल के जवाब में राज ने कहा कि हमारी लड़ाई मोदी से नहीं ईवीएम से है लेकिन यदि ईवीएम की लड़ाई को मोदी से लड़ाई समझा जाता है तो इससे कोई परहेज नहीं है।

गौरतलब है कि ममता बनर्जी ने भी 21 जुलाई को शहीद दिवस रैली से नारा 'मशीन नहीं बैलेट लौटाओ' नारा दिया है। ममता ने भाजपा पर ईवीएम में छेड़छाड़ करके 2019 के लोकसभा चुनाव जीतने का आरोप लगाया था।

 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप