कोलकाता, जागरण संवाददाता।  धर्मतला से कोलकाता पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने मणिपुर के प्रतिबंधित नक्सली संगठन कांगलेईपक कम्युनिस्ट पार्टी मिलिट्री काउंसिल के मुखिया को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। उसके पास से 9 एमएम की एक और 7 एमएम की 2 पिस्तौल और तीन राउंड कारतूस बरामद किया गया है।

आरोपित पर पहले से ज्वैलरी की एक दुकान में डकैती का मामला दर्ज है। एसटीएफ ने उसके खिलाफ आ‌र्म्स एक्ट में मामला दर्ज कर कोर्ट में पेश किया। सूत्रों के अनुसार मुखबिर की सूचना पर एसटीएफ ने रविवार सुबह धर्मतला बस टर्मिनस के आसपास घेराबंदी कर अमन नेल्सन सिंह उर्फ चिंगखेई उर्फ महेखोंभा मेइतेई (28) नामक युवक को गिरफ्तार कर लिया। वह मणिपुर के लंलाई थाना अंतर्गत ताखेल माखा लेइकाई इलाके का रहने वाला बताया गया है। तलाशी में उसके पास से 9 एमएम की एक और 7 एमएम की 2 पिस्तौल तथा तीन राउंड कारतूस बरामद किए गए हैं।

आरोपित मणिपुर का प्रतिबंधित नक्सली संगठन कांगलेईपक कम्युनिस्ट पार्टी मिलिट्री काउंसिल का स्वघोषित मुखिया बताया गया है। पुलिस सूत्रों के अनुसार आरोपित अमन पर विवेकानंद स्थित एक ज्वैलरी शो रूम में दिन दहाड़े डकैती की वारदात को अंजाम देने का मामला दर्ज था। उक्त संगठन के कुछ सदस्यों को डकैती के मामले में पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका था। एसटीएफ को लंबे समय से अमन की तलाश थी। पूछताछ में अमन ने बताया कि उसने मणिपुर में कई लोगों से लाखों की रंगदारी वसूली थी।

एसटीएफ के उपायुक्त मुरलीधर शर्मा के अनुसार उक्त संगठन भारत में प्रतिबंधित है। ¨हसक गतिविधियों को अंजाम देने के मामले में संगठन के कई सदस्य को देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार कर पहले ही जेल भेजा जा चुका है। पूछताछ में पता चला कि नेल्सन और उसके संगठन के सदस्यों का नेपाल के माओवादियों के साथ भी संपर्क हैं। आशंका जताई जा रही है कि अमन कोलकाता में रह रहे मणिपुर नागरिकों के ऊपर हमला करने के इरादे से आया था। हालांकि एसटीएफ अमन नेल्सन से कोलकाता आने का मकसद, उसके पास इतने हथियार क्यों थे तथा संगठन के और कितने सदस्य कोलकाता में हैं इस बाबत पूछताछ कर रही है। 

Posted By: Preeti jha