मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

राज्य ब्यूरो, कोलकाता। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के विरुद्ध हमला बोलते हुए दक्षिण में कर्नाटक से चुनाव प्रचार शुरू किया। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री व तेलगु देशम पार्टी के नेता चंद्रबाबू नायडू द्वारा विशाखापट्टनम में रविवार को आयोजित युनाइटेड इंडिया सभा में ममता शामिल हुईं। उन्होंने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लूट के चौकीदार हैं। मोदी को सत्ता से हटना निश्चित है। इस बार भाजपा 125 सीटों पर सिमट कर रह जाएगी और केंद्र में असली जनता की सरकार बनेगी। चुनाव के बाद देश की जनता अपना नेता चुनेगी।

ममता ने आम जनता से भाजपा को हराने की अपील की। उन्होंने कहा कि आंध्र प्रदेश समेत दक्षिण के अन्य राज्यों में भाजपा को वोट नहीं मिलेगा। बंगाल में भाजपा के लिए कोई जगह नहीं है। उत्तर प्रदेश में मायावती और अखिलेश भाजपा के रथ को रोक देंगे। बिहार में भी भाजपा को ज्यादा सीटें नहीं मिल सकती। भाजपा इस बार 125 सीटों पर सिमट कर रह जाएगी। ममता ने भाजपा से भी मोदी और अमित शाह को सहयोग नहीं करने की अपील की।

इसके पहले ममता ने विशाखापट्टनम रवाना होने से पहले दमदम एयरपोर्ट पर संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि देश में जिस तरह तानाशाही चल रही है उसमें सभी को एकजुट होना जरूरी है। वह भाजपा विरोधी गठबंधन बनने को लेकर 100 प्रतिशत आश्वस्त हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र में तानाशाही सरकार की वजह से देश में जो परिस्थिति पैदा हुई है उसमें सभी को मोदी के विरुद्ध एकजुट होना होगा। मोदी सरकार सभी संवैधानिक संस्थाओं को ध्वस्त कर रही है। देश के लोग भयभीत हैं। लोगों को बोलने का अधिकार छीन लिया गया है। मोदी सरकार के डर से लोग अपनी बात कहने से डर रहे हैं। सरकारी उपक्रमों का निजीकरण किया जा रहा है। लोगों का रोजगार छीन गया है। ममता ने कहा कि ऐसी स्थिति में उन्हें उम्मीद है कि सभी लोग मोदी के विरुद्ध एकजुट होंगे।

ममता बनर्जी के आह्वान पर 19 जनवरी को कोलकाता में बिग्रेड रैली में देश भर के भाजपा विरोधी नेता युनाइटेड इंडिया के बैनर तले एक मंच पर जुटे थे। ममता की ब्रिगेड रैली में चंद्रबाबू नायडू, सपा के अखिलेश यादव, कर्नाटक के मुख्यमंत्री कुमारस्वामी, नेशनल कांफ्रेस के नेता फारूक अब्दुल्ला, एनसीपी नेता शरद पवार, राजद के तेजस्वी यादव और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल समेत अन्य भाजपा विरोधी नेता जुटे थे। उसके बाद चंद्रबाबू नायडू के आह्वान पर विशाखापट्टनम में युनाइटेड इंडिया की दूसरी सभा हुई जिसमें ममता समेत अन्य भाजपा विरोधी नेता शामिल हुए। 

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप