राज्य ब्यूरो, कोलकाता। पश्चिम बंगाल के कोलकाता में कोरोना वायरस से संक्रमित की मौत के बाद उसके अंतिम संस्कार को लेकर विवाद न हो इसके लिए कोलकाता नगर निगम ने कदम उठाया है। अब कोरोना संक्रमित किसी व्यक्ति की मौत होती है तो उसकी अंत्येष्टि अब श्मशान या कब्रगाह में नहीं होगी।

गत दिनों कोरोना वायरस से संक्रमित एक प्रौढ़ की मौत के बाद उसके शव के दाह संस्कार को लेकर काफी विवाद हुआ था। परिवार के लोगों ने भी शव लेने से इन्कार कर दिया और पुलिस को शव निमतल्ला श्मशान घाट ले जाना पड़ा था। वहां भी लोगों ने उनकी अंत्येष्टि का विरोध किया था। स्थानीय निवासियों ने पूरी तरह से घेराव कर दिया था। पुलिस के साथ लंबी बहस के बाद रात में उसके शव का दाह संस्कार हुआ था। 

कोलकाता के मेयर फिरहाद हकीम ने कहा कि दाह संस्कार हो या फिर दफन करने के लिए नया स्थान तलाश लिया गया है। उन्होंने कहा कि किसी का दाह संस्कार करना है तो उसे धापा में एक स्थान पर किया जाएगा और यदि दफन करना होगा तो बागमारी में एक स्थाना तलाशा गया है। उन दो स्थानों पर अंत्येष्टि और दफन करने की प्रक्रिया पूरी तरह से सुरक्षित तरीके से विशेष कपड़े में जानकार करेंगे।

पिछले सोमवार को कोरोना वायरस संक्रमण से कोलकाता में पहली मौत दमदम के 57 वर्षीय व्यक्ति की हुई थी। साल्टलेक के एक निजी अस्पताल में उसकी मृत्यु हुई थी। पिछले हफ्ते के शनिवार को विभिन्न परीक्षणों के बाद उनके शरीर पर कोरोना वायरस की मौजूदगी की पुष्टि हुई थी और सोमवार दोपहर दिल का दौरा पड़ने से उसका निधन हो गया था। इसके बाद उसकी अंत्येष्टि को लेकर कापी विवाद हुआ था। 

राज्य में पिछले 24 घंटों में एक कोरोना वायरस से संक्रमण की एक पॉजिटिव रिपोर्ट आई है। वर्तमान में राज्य में 25 हजार 96 लोग घर आइसोलेशन में हैं। पिछले 24 घंटे में स्वास्थ्य विभाग ने 24 नए लोगों को घर आइसोलेशन में रहने का निर्देश दिया है। 73 लोगों को अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है। कोविड-19 के लक्षणों के कारण पिछले 24 घंटे में 53 लोगों के शरीर से नमूने एकत्र किए गए थे। उनमें से 27 की रिपोर्ट आई थी, जिसमें 26 की रिपोर्ट नकारात्मक आई।

एकमात्र नयाबाद के 66 वर्षीय निवासी की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई । अब तक, राज्य में कुल 269 नमूने एकत्र किए गए हैं और उनका परीक्षण किया गया है। इनमें से 10 में कोरोना वायरस का संक्रमण मिला है। कोरोना वायरस के संक्रमण से राज्य में अभी तक एक व्यक्ति की मौत हुई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस के तीसरे चरण के प्रसार को रोकने के लिए पूरे देश में 14 अप्रैल की मध्यरात्रि लॉकडाउन की घोषणा की है। प्रधानमंत्री ने इन 21 दिनों के लिए अपने को घर में बंद रखने का आदेश दिया है।

बंगाल की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sachin Kumar Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस