जागरण संवाददाता, कोलकाता। कोलकाता के धर्मतल्ला में एक तरफ राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी तृणमूल कांग्रेस की महिला इकाई ने लोकसभा चुनाव में पूरे राज्य को संवेदनशील घोषित करने की भाजपा की मांग के खिलाफ धरना शुरू किया, वहीं उसके ठीक पास ही भाजपा के सेवानिवृत्त पुलिस अधिकारी प्रकोष्ठ के 120 आइपीएस अधिकारियों ने भी धरना शुरू कर दिया है।

शुक्रवार दोपहर 12 बजे से झाड़ग्राम की पूर्व एसपी आइपीएस भारती घोष के नेतृत्व में सेवानिवृत्त आइपीएस अधिकारियों ने 36 घंटे के लिए धरने की शुरुआत की है।

धर्मतल्ला स्थित गांधी मूर्ति के पास इन आइपीएस अधिकारियों का धरना शुरू हुआ है। उनका कहना है कि पश्मिच बंगाल में कानून-व्यवस्था की स्थिति बिल्कुल बदतर हो चुकी है। यहां चारों तरफ हिंसा का माहौल है और सेवारत पुलिस अधिकारी सत्तारूढ़ पार्टी के दबाव में कानून व्यवस्था की बदहाली को सुधारने में विफल हैं। धरने में पार्टी के राज्य महासचिव सायंतन बसु के अलावा प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष भी शामिल हु।

गांधी मूर्ति के ठीक पास में स्थित रानी रासमणि एवेन्यू के पास राज्य की स्वास्थ्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) चंद्रिमा भट्टाचार्य के नेतृत्व में तृणमूल महिला मोर्चा ने भी दो दिवसीय धरना की शुरुआत शुक्रवार सुबह 10 बजे से की है। यह शनिवार को भी जारी रहेगा। तृणमूल का आरोप है कि बंगाल के प्रत्येक मतदान केंद्र को संवेदनशील घोषित करने की मांग करके भाजपा ने बंगाल का अपमान किया है।

Posted By: Arun Kumar Singh