कोलकाता, राज्य ब्यूरो। बंगाल विधानसभा चुनाव के तीसरे चरण के मतदान के दौरान चुनाव आयोग ने बड़ा फैसला लेते हुए कोलकाता से आठ रिटर्निंग अफसरों को एक बार में हटा दिया। चुनाव आयोग ने बयान जारी करके कहा कि कोई भी लगातार तीन वर्षो तक एक पद पर नहीं रह सकता है। उस स्थिति में उक्त अधिकारी को हटाने का नियम है, लेकिन अभी तक उस नियम को कोलकाता के मामले में लागू नहीं किया गया है इसलिए आठ रिटर्निंग अफसरों को हटा दिया गया है।

सूत्रों के अनुसार इन आठ अधिकारियों पर कई बार पक्षपात के आरोप लगे हैं। उनकी अलग-अलग समय पर कई शिकायतें भी मिलीं लेकिन किसी भी समय उन्होंने उन आरोपों पर ध्यान नहीं दिया। खबर चुनाव आयोग तक पहुंची तो चुनाव आयोग उन्हें हटाने का फैसला किया। नए रिटर्निंग ऑफिसर भी नियुक्त किए गए हैं। कोलकाता में कुल आठ विधानसभा क्षेत्रों के रिटर्निंग अफसरों को हटा दिया गया है। इनमें कोलकाता पोर्ट, जोड़ासांको, भवानीपुर, इंटाली, चौरंगी, बेलियाघाटा, श्यामपुकुर और काशीपुर-बेलगछिया शामिल हैं। आयोग कोलकाता की 11 में से आठ सीटों के रिटìनग अफसरों को पहले ही हटा चुका है। 

बता दें कि तीसरे चरण में तीन जिलों हावड़ा, हुगली और दक्षिण 24 परगना की 31 सीटों पर कुल 205 प्रत्याशी मैदान में रहे। हावड़ा की सात, हुगली की आठ और दक्षिण 24 परगना जिले की 16 सीटें हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में इन 31 सीटों में से 30 पर तृणमूल कांग्रेस ने कब्जा जमाया था। सिर्फ आमता सीट पर कांग्रेस की जीत हुई थी। वहीं, तीसरे चरण की वोटिंग के लिए केंद्रीय बलों की 618 कंपनियां तैनात रहीं। सबसे ज्यादा 307 कंपनियां दक्षिण 24 परगना जिले में तैनात रहीं।

आठ चरण में चुनाव और दो मई को नतीजे

राज्य में 294 विधानसभा सीटों पर आठ चरणों में मतदान होने हैं। पहले चरण का मतदान 27 मार्च और दूसरे चरण का मतदान 1 अप्रैल, 6 अप्रैल को तीसरे चरण का मतदान, 10 अप्रैल को चौथे,  17 अप्रैल को पांचवें,  22 अप्रैल को छठे, 26 अप्रैल को सातवें और 29 अप्रैल को आठवें चरण का मतदान होगा। नतीजे दो मई को आएंगे।  

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021