कोलकाता, जागरण संवाददाता। कोलकाता नगर निगम (केएमसी) ने डेंगू, चिकनगुनिया और मलेरिया जैसी वेक्टर जनित बीमारियों के प्रसार को रोकने एवं जानलेवा मच्छरों के लार्वा की खोज व उसके खात्मे के लिए एक ड्रोन की खरीदारी की है। निगम के एक शीर्ष अधिकारी ने गुरुवार को इसकी जानकारी दी।

उपमेयर व स्वास्थ्य विभाग के मेयर परिषद सदस्य (एमएमआइसी) अतीन घोष ने बताया कि मच्छरों के लार्वा, गंदगी व जमा पानी की तलाश अब ड्रोन के जरिए की जाएगी। ड्रोन की मदद से तस्वीरें ली जाएगी और इन जानलेवा मच्छरों का खात्मा किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि ड्रोन को जीपीएस तकनीक से लैस किया गया है और यह 20 मंजिला इमारत की ऊंचाई तक उड़ान भरने में सक्षम है। उन्होंने बताया कि मानव रहित ड्रोन उन बहुमंजिला इमारतों की छतों व अन्य स्थानों पर एकत्रित पानी की तस्वीरें खीचेंगा और नमूना एकत्र करेगा जहां पहुंचना हमारे लिए दुर्गम है। ड्रोन में एक रोबोट का हाथ भी है जो नमूने एकत्र करेगा।

नमूनों का परीक्षण के बाद अगर हमें पता चलता है कि इन दुर्गम स्थानों पर जानलेवा मच्छरों का प्रजनन स्थल है तो हम ड्रोन का उपयोग कीटनाशकों का स्प्रे करने और इनके खात्मे के लिए भी करेंगे। कीटनाशकों के भंडारण के लिए ड्रोन में एक कंटेनर भी लगा हुआ है। इसमें एक हूटर भी है जो कीटनाशकों के छिड़काव के दौरान चालू हो जाएगा। गौरतलब है कि इस साल डेंगू से अब तक महानगर में कई लोगों की जानें जा चुकी है जबकि कई पीडि़त हैं। हर साल बड़ी संख्या में लोग इन जानलेवा मच्छरों का शिकार होते हैं। 

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप