कोलकाता, राज्य ब्यूरो।  West Bengal Coronavirus: पश्चिम बंगाल में गुरुवार को एक और व्यक्ति कोरोना वायरस पॉजिटिव पाया गया। कोरोना पॉजिटिव शख्स महानगर स्थित नयाबाद का रहने वाला है। उसकी उम्र 66 साल की है। इस नए केस के सामने आने के बाद पश्चिम बंगाल में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर दस पहुंच गई है। इससे पहले बुधवार को एक भी कोरोना मरीज न मिलने से राज्य को थोड़ी राहत मिली थी।

बुधवार को कोरोना वायरस के लक्षण दिखाने वाले 54 लोगों की लार के नमूने लिए गए और जांच के लिए भेजा गया है। गुरुवार को उनकी जांच रिपोर्ट आई तो एक शख्स की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। अधिकारियों ने उस व्यक्ति को आइसोलेशन में रखा है। उसके परिवार के और संपर्क में आए लोगों के नमूने लिए जा रहे हैं और उन्हें क्वॉरंटाइन किया जा रहा है। पश्चिम बंगाल में अब तक कुल 3,969 लोगों को निगरानी में रखा गया है जिनमें से 97 अस्पताल में भर्ती हैं।

इससे पहले बुधवार को कोरोना वायरस का कोई ताजा मामला सामने नहीं आया था। उससे पहले मंगलवार को दो लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी। बुधवार तक राज्य में नौ लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हो चुकी थी और एक की मौत हो चुकी है। बुधवार को आई रिपोर्ट में कोई केस पॉजिटिव न मिलने पर अधिकारी आश्वस्त थे। नया मरीज मिलने के बाद एक बार फिर से राज्य वासियों में चिंता है।

बंगाल में संक्रमित होने के संदेह में 97 लोग अस्पताल में भर्ती

महानगर में मंगलवार को कोरोना संक्रमित होने के संदेह में महज 15 लोग भर्ती हुए थे परंतु, बुधवार को 97  लोग भर्ती हुए हैं। राहत की खबर यह है कि पिछले 24 घंटों में अस्पतालों में भर्ती 66 लोगों के नमूने की जांच की गई लेकिन उनमें कोरोना वायरस संक्रमण के प्रमाण नहीं मिले। इस समय राज्य के विभिन्न अस्पतालों में कोरोना संक्रमित होने के संदेह में 217 लोग भर्ती हैं।  स्वास्थ्य विभाग की ओर से बुधवार को जारी बयान में कहा गया है कि 3969 नए लोगों को होम क्वारंटाइन में भेजा गया हैं। इसी के साथ राज्य में अभी होम क्वारंटाइन में रखे गए लोगों की संख्या  22,921 हो गया है।

इस बीच बंगाल में दूसरा कोरोना स्पेशलिटी अस्पताल' राजारहाट में चित्तरंजन राष्ट्रीय कैंसर संस्थान में फिलहाल तैयार किया जा रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय अधीन इस निर्माणाधीन अस्पताल में फिलहाल विदेश से आए लोगों को क्वारंटाइन किया गया है। इसे एक पूर्ण अस्पताल में परिवर्तित करने का निर्णय लिया गया। ताकि जब रोगियों की संख्या में अचानक वृद्धि हो, तो उपचार की व्यवस्था संभव हो। इस अस्पताल में फिलहाल 50 डाक्टरों, नर्स व स्वास्थ्य कर्मियों को तैनात किया गया है। इस में 500 बेड की व्यवस्था की गई है। पूर्वी भारत व बंगाल में कोलकाता मेडिकल कॉलेज के बाद कोरोना उपचार का यह दूसरा अस्पताल होगा।

बेलेघाटा आइडी में नर्स व सफाई कर्मियों का विरोध प्रदर्शन

राज्य का कोरोना व अन्य वायरस संक्रमित रोगियों के उपचार का प्रमुख केंद्र बेलेघाटा आइडी अस्पताल की नर्स और सफाई कर्मियों ने बुधवार को काम बंद कर विरोध प्रदर्शन किया। वे लोग मास्क, सैनिटाइजर और विशेष पोशाक की मांग को लेकर अस्पताल के अधीक्षक व प्रिंसिपल के चेंबर के सामने धरने पर बैठ गए। इन लोगों का कहना है कि मास्क, सैनिटाइजर व विशेष पोशाक नहीं होने की वजह से उन लोगों की जान आफत में है। क्योंकि, इसी अस्पताल में राज्य के कोरोना संक्रमित सात रोगी का उपचार चल रहा है। उनलोगों की मांग को राज्य स्वास्थ्य विभाग को भेजा गया है। खबर है कि बाद में उनकी मांगों पूरा करने का भरोसा मिलने के बाद वे लोग काम पर लौट गए। 

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस