राज्य ब्यूरो, कोलकाता : बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) का अधिकार क्षेत्र बढ़ाने के केंद्र सरकार के फैसले का कडा़ विरोध करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखा है। ममता ने इस फैसले को देश के संघीय ढांचे पर आघात बताते हुए अविलंब वापस लेने की मांग की है। गौरतलब है कि बीएसएफ का अब तक अंतरराष्ट्रीय सीमा से 15 किलोमीटर अंदर तक के इलाकों में अधिकार क्षेत्र था। केंद्र के नए फैसले के बाद अब उसका अधिकार क्षेत्र अंतरराष्ट्रीय सीमा से 50 किलोमीटर अंदर तक हो गया है। बंगाल से नेपाल, भूटान और बांग्लादेश की सीमाएं लगी हुई हैं, जिसका कुल क्षेत्रफल 2164.78 किलोमीटर तक है।

बंगाल 88,752 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है। केंद्र के फैसले को मानने से सूबे का 32,400 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र यानी 37 फीसद इलाका बीएसएफ के नियंत्रण में आ जाएगा। ममता का तर्क है कि संविधान के मुताबिक पुलिस को अपने राज्य में होने वाले अपराधिक घटनाओं की जांच करने का अधिकार है।

इस कदम से उनके अधिकार क्षेत्र में हस्तक्षेप होगा। ममता ने आरोप लगाया कि कानून-व्यवस्था की स्थिति को बिगाड़ने के लिए राजनीतिक उद्देश्य से प्रेरित होकर यह कदम उठाया गया है। बीएसएफ का गठन केवल सीमा की सुरक्षा के उद्देश्य से किया गया था। गौरतलब है कि पंजाब सरकार केंद्र के इस फैसले का पहले से ही जबरदस्त विरोध कर रही है और अब ममता भी इसके खिलाफ मुखर हुई हैं।

Edited By: Vijay Kumar