जागरण संवाददाता, कोलकाता। कलकत्ता मेडिकल कॉलेज अस्पताल ने फेफड़े के कैंसर का सफलतापूर्वक इलाज कर चिकित्सा विज्ञान में बड़ी उपलब्धि अपने नाम दर्ज की है। अस्पताल के चिकित्सकों ने सोमा दोलुई नामक महिला को मौत के मुंह से निकालकर नई जिंदगी प्रदान की है।

हावड़ा के बगनान इलाके की रहने वाली सोमा फेफड़े के कैंसर के अंतिम चरण में पहुंच चुकी थी और उनके बचने की उम्मीदें न के बराबर थी। सोमा की हड्डियों से लेकर लीवर तक में कैंसर फैल चुका था। अस्पताल के चिकित्सकों ने छह महीने तक दवाओं के जरिए सोमा को कैंसर से पूरी तरह मुक्त कर दिया।

चूंकि इलाज काफी महंगा था और सोमा के परिजनों की आर्थिक स्थिति उतनी अच्छी नहीं थी इसलिए स्वास्थ्य विभाग से अनुरोध किया गया। सोमा के इलाज के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से एक लाख रुपये की रकम प्रदान की गई।

सोमा के शरीर में फिर से कैंसर न फैले, चिकित्सक इसका पूरा ध्यान रख रहे हैं। सोमा को काफी सारी सावधानियां बरतने की सलाह दी गई है। सोमा की केस स्टडी को प्रकाशन के लिए अंतरराष्ट्रीय मेडिकल जोर्नल में भेजा गया है। 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Preeti jha