राज्य ब्यूरो, कोलकाता: तृणमूल कांग्रेस की लोकसभा सांसद महुआ मोइत्रा द्वारा बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ पर राज्य सरकार के खिलाफ भाजपा के तीर चलाने के आरोप के बाद शनिवार को राज्यपाल ने उनपर पलटवार किया। राज्यपाल ने ट्वीट कर महुआ को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि आप जैसी योग्य नेताओं को सियासी कैद में देखकर मैं बहुत दुखी और चिंतित महसूस कर रहा हूं। दरअसल, एक वायरल वीडियो में कोलकाता में कोविड-19 के रोगियों के शवों को वाहन में घसीटते हुए दिखाया गया है। 

कोलकाता पुलिस ने पहले ट्वीट किया कि राज्य स्वास्थ्य विभाग ने सूचित किया है कि शव कोविड-19 रोगियों के नहीं थे, बल्कि अस्पताल के मुर्दाघर के लावारिस/ अज्ञात शव थे।  फर्जी खबर फैलाने वाले व्यक्तियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा रही है। इस घटना को लेकर राज्यपाल ने कड़ी प्रतिक्रिया जताई थी और इसे शर्मनाक बताया था। वहीं, तृणमूल सांसद महुआ मोइत्रा ने शुक्रवार को ट्वीट कर राज्यपाल की खिंचाई की थी। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, 'बंगाल के राज्यपाल राज्य सरकार पर भाजपा के तीर चला रहे हैं जब कोरोना महामारी, एम्फन व दूसरे राज्यों से लौटे प्रवासी श्रमिकों जैसे चुनौतियों का बंगाल एक ही बार में सामना कर रहा है। (सड़ा हुआ) सेब कभी भी पेड़ से दूर नहीं गिरता है।' इसके बाद शनिवार को धनखड़ ने इसका जवाब देते हुए लिखा, 'पंचायतों में भ्रष्टाचार व अपनी ही सरकार के पंचायत विभाग के कामकाज पर सवाल उठाने के बाद अब राज्यपाल पर आक्रमण करके ममता बनर्जी के पक्ष में जाने की कोशिश की जा रही है।  ऐसी लाचारी की स्थिति में आप अकेली नहीं हैं! इन योग्य नेताओं की कैद से मैं दुखी और चिंतित हूं।'

राज्यपाल ने राज्य में भ्रष्टाचार व कट मनी का याद दिलाते हुए भी तृणमूल सांसद को घेरा और कहा कि यह सब यहां व्याप्त है। उल्लेखनीय है कि हाल में तृणमूल सांसद महुआ मोइत्रा ने पंचायत विभाग के कार्य पर सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था कि कई पंचायतें 60 फीसद राशि भी खर्च नहीं कर पाई है। हालांकि राज्य के पंचायत मंत्री सुब्रत मुखर्जी ने मोइत्रा के आरोपों को खारिज किया था।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप