कोलकाता, जागरण संवाददाता। कोलकाता समेत राज्यभर में तांत के सामान बनाने में जुटे बुनकरों की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए पश्चिम बंगाल सरकार राज्य के दो जिलों बर्दवान और हुगली में तांत हाट स्थापित करने जा रही है। राज्य सरकार के कपड़ा विभाग की ओर से इस बारे में शनिवार को जानकारी दी गई है।

बताया गया है कि राज्य सरकार की तांतश्री योजना के तहत पहला सरकारी स्वामित्व वाला सेटअप हुगली जिले के श्रीरामपुर पूर्वस्थली -एक ब्लॉक में और बर्दवान के धात्रीग्राम कालना ब्लॉक में, तांत हाट स्थापित किया जाएगा। यहा सूती धागे, रंग, बुनाई के लिए औजार और सूती कपड़े की बुनकर किस्में उपलब्ध कराएंगे।

विभाग की ओर से बताया गया है कि यह मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के लंबे समय से चले आ रहे सपने की अभिव्यक्ति है, जिन्होंने 2016 में परियोजना की घोषणा की थी। बाजार ने 2017 में आकार लेना शुरू कर दिया और अब लगभग पूरा हो गया है।

पूर्व बर्दवान जिले के कालना और कटवा उपखंडों में सैकड़ों हजारों लोग प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से बुनाई के पेशे से जुड़े हुए हैं। यहां तक ​​कि केवल बुनकरों की संख्या एक लाख से अधिक हैं। इसलिए ये तांत हाट इलाके के लोगों के लिए बहुत मददगार होंगे।

श्रीरामपुर में बनने वाले बाजार की लागत 7.31 करोड़ रुपये है। इसमें एक राष्ट्रीयकृत बैंक की एक शाखा, साथ ही एक गेस्ट हाउस और एक आधुनिक सार्वजनिक शौचालय भी होगा। इससे दूर दराज से आने वाले खरीददारों और विक्रेताओं को काफी सुविधाएं होंगी।

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस