कोलकाता, राज्य ब्यूरो। बंगाल सरकार ने 10 मई को कल-कारखानों और चाय बागानों से जुड़े पक्षों की एक बैठक बुलाई है जिसमें श्रमिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के बारे में चर्चा होगी। सूत्रों ने यहां शनिवार को यह जानकारी दी। राज्य सरकार ने चाय बागानों को कोविड19 के खतरे को देखते हुए एक पाली में सामान्य से 50 प्रतिशत कार्यबल ही बुलाने का निर्देश दे रखा है। इसी तरह जूट मिलों में एक पाली में श्रमिक संख्या 30 प्रतिशत तक सीमित रखने का नियम है।

सूत्रों ने बताया, ‘‘10 मई को एक आभासी बैठक आयोजित की जाएगी, जिसकी अध्यक्षता श्रम विभाग के प्रमुख सचिव करेंगे। बैठक में उद्योगों, कारखानों, मिलों, विनिर्माण इकाइयों और चाय बागानों में काम करने वाले श्रमिकों की महामारी से सुरक्षा सुनिश्चित करने के बारे में चर्चा की जायेगी तथा विभिन्न दिशानिर्देशों को सख्ती से लागू करने में प्रबंधन की प्रभावी भूमिका पर विचार किया जायेगा।

सरकार ने मास्क पहनने, सामाजिक दूरी बनाकर रहने तथा कोविड से संबंधित स्वास्थ्य और स्वच्छता प्रोटोकॉल का हर समय पालन करने की सलाह दी है। उसने कहा है कि कार्यालयों, कारखानों और दुकानों में साफ-सफाई की नियमित व्यवस्था के निमय के अनुपालन पर भी जोर दिया गया है। राज्य सरकार ने यह भी निर्देश दिया है कि चुनाव की अवधि के दौरान केंद्रीय सुरक्षा बलों के रहने के दी गयी जूट मिलों और अन्य परिसरों को पूरी तरह से साफ स्वच्छ किया जाना चाहिए।

बता दें कि विधानसभा चुनाव में टीएमसी ने ऐतिहासिक जीत दर्ज की है 213 सीटों पर कब्जा जमाया है। भाजपा 77 सीटें जीतकर राज्य में मुख्य विपक्षी दल के रूप में उभरी है जबकि कांग्रेस और लेफ्ट गठबंधन का सफाया हो गया।