कोलकाता, राज्य ब्यूरो। सत्ताधारी दल तृणमूल कांग्रेस की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रहीं हैं। अब उसके दो मंत्रियों वन मंत्री राजीव बनर्जी व उपभोक्ता मामलों के मंत्री साधन पांडे तथा दो विधायकों जितेंद्र तिवारी व दीपक हल्दर के भाजपा में शामिल होने की संभावनाएं फिर बढ़ गई हैं।

सूत्रों के मुताबिक दोनों मंत्री हाल में तृणमूल से भाजपा में शामिल हुए कद्दावार नेता सुवेंदु अधिकारी के संपर्क में हैं। वहीं विधायक जितेंद्र तिवारी के साथ भाजपा के वरिष्ठ नेताओं की बैठक हुई है, जबकि विधायक दीपक हल्दर ने फिर पार्टी के खिलाफ असंतोष व्यक्त किया है।

सूत्रों का कहना है कि सत्ताधारी दल के वन मंत्री राजीव बनर्जी व उपभोक्ता मामलों के मंत्री साधन पांडे पार्टी की मौजूदा गतिविधियों से काफी नाराज चल रहे हैं। इतना ही नहीं, बताया जा रहा है कि दोनों मंत्री हाल में तृणमूल से भाजपा में शामिल हुए कद्दावार नेता सुवेंदु अधिकारी के संपर्क में हैं। एक तरह से कहा जाए तो इन्हें भाजपा शामिल कराने की जिम्मेदारी सुवेंदु को दी गई है।

तृणमूल विधायक जितेंद्र तिवारी के भाजपा में शामिल होने की संभावना बढ़ी

पश्चिम बर्धमान जिले के पांडेश्वर के तृृणमूल विधायक जितेंद्र तिवारी के भाजपा में शामिल होने की संभावना फिर बढ़ गई है। सूत्रों के मुताबिक कोलकाता में कल एक पांच सितारा होटल में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के साथ उनकी बैठक हुई है। इस बैठक में बाबुल सुप्रियो, कैलाश विजयवर्गीय, अरविंद मेनन, दिलीप घोष आदि नेता उपस्थित थे।

सूत्रों का कहना है कि बैठक में एक तरफ जहां श्री तिवारी को भाजपा में शामिल करने पर मुख्य रूप से चर्चा हुई। वहीं दूसरी ओर इस बैठक में केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो को भी मनाने की कोशिश की गई जिन्होंने पिछले दिनों प्रत्यक्ष रूप से श्री तिवारी को भाजपा शामिल किए जाने का विरोध किया था।

दूसरी ओर दक्षिण 24 परगना के डायमंड हार्बर के विधायक दीपक हल्दर भी पार्टी से खफा चल रहे हैं। श्री हल्दर पिछले दिनों मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से सांसद भतीजे अभिषेक बनर्जी के डायमंड हार्बर में आयोजित सभा में अनुपस्थित रहे। सूत्रों ने बताया कि श्री हल्दर भी जल्द ही भाजपा में शामिल हो सकते है।

भाजपा सांसद शांतनु ठाकुर को पार्टी नेतृत्व ने चेताया

बैठक में मतुआ समुदाय से भाजपा सांसद शांतनु ठाकुर भी उपस्थित थे। बताया जा रहा है कि भाजपा प्रदेश नेतृत्व ने उन्हें नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के बारे में फिलहाल किसी प्रकार की टिप्पणी करने से मना किया है। बताते चलें कि गत दिनों श्री ठाकुर ने मतुआ समुदाय की मुख्य मांग सीएए को लागू करने में विलंब को लेकर चिंता जाहिर की थी तथा केंद्र से स्पष्ट निर्णय की मांग की थी। इसे लेकर उनके तृणमूल में शामिल होने की अटकलें तेज हो गई हैं। 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021