राज्य ब्यूरो, कोलकाता : बंगाल विधानसभा चुनाव के चौथे चरण के मतदान के पहले मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) सुप्रीमो ममता बनर्जी के सीआरपीएफ के जवानों का घेराव करने के आह्वान संबंधी बयान को लेकर भाजपा की आपत्ति के बाद अब चुनाव आयोग ने ममता बनर्जी के बयान को लेकर जिला प्रशासन से रिपोर्ट तलब किया है। जिला प्रशासन को जल्द ही इस बारे में रिपोर्ट भेजने का कहा है। बता दें कि ममता के बयान के बाद भाजपा के प्रतिनिधिमंडल ने चुनाव आयोग से मुलाकात कर ज्ञापन सौपा था और इसे संविधान विरोधी करार देते हुए चुनाव आयोग से कार्रवाई की मांग की थी।

मां और बहनों से कह रही हूं कि बाहर से कोई आए उसे घेर लो

बता दें ममता ने बुधवार को कूचबिहार की सभा में तीसरे चरण के मतदान के दौरान आरामबाग से तृणमूल की महिला उम्मीदवार पर हमले को लेकर कहा- मैं अपनी मां और बहनों से कह रही हूं कि बाहर से कोई आए और परेशानी पैदा करे और अगर सीआरपीएफ आती है और परेशानी का कारण बनती है, तो उसे घेर लो। उन्होंने कहा, 'एक समूह सीआरपीएफ को घेर लेगा, एक समूह वोट देने जाएगा। अगर आप सिर्फ घेराबंदी रखते हैं, तो वोट चला जाएगा। यह भाजपा की चाल है। स्थिति को समझते हुए घेराबंदी इस तरह से की जानी चाहिए कि पांच लोग घेरेंगे, तो पांच लोग वोट देंगे।'

बाबुल ने ममता बनर्जी के चुनाव प्रचार पर रोक लगाने की मांग की

दूसरी ओर, केंद्रीय राज्यमंत्री और टॉलीगंज से भाजपा के उम्मीदवार बाबुल सुप्रियो ने चुनाव आयोग से ममता बनर्जी के चुनाव प्रचार व भाषण पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है।

दंगे की तस्वीरें पोस्ट करने को लेकर तृणमूल की आयोग से शिकायत

-तृणमूल कांग्रेस ने भाजपा सांसद बाबुल सुप्रियो व पार्टी नेता रूद्रनील घोष के बांग्लादेश में हुए दंगे की तस्वीरें इंटरनेट मीडिया पर पोस्ट करने को लेकर चुनाव आयोग से शिकायत की है। तृणमूल के राज्यसभा सदस्य सुखेंदु शेखर राय ने कहा कि ऐसी तस्वीरें पोस्ट करके वे सांप्रदायिक तनाव फैलाना चाह रहे हैं।

 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021