कोलकाता, जागरण संवाददाता। बैरकपुर से भाजपा सांसद अर्जुन सिंह ने राज्य सरकार पर भाटपाड़ा नगरपालिका के विकास कार्यो की राशि को रोक कर रखने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के इस रवैए के खिलाफ वे हाई कोर्ट में मामला दायर करेंगे।

उनका आरोप है कि ममता सरकार ने भाटपाड़ा नगरपालिका इलाकों के विकास कार्यो के 70 करोड़ रुपये रोक रखा है। इस वजह से पालिका द्वारा नागरिकों दी जाने वाली सेवाएं ठप हो गई हैं। भाटपाड़ा पालिका पर भाजपा के कब्जा होने के बाद ही तृणमूल कांग्रेस नीत राज्य सरकार ने विकास कार्यो के लिए मंजूर राशि को रोक दिया है।

सांसद का आरोप है कि लोकसभा चुनाव के बाद से ही ममता सरकार ने विकास कार्यो की राशि बंद कर दी है। इसके कारण जहां नागरिक सेवा ठप हो गई है वहीं पालिका के करीब 4 हजार स्थायी, अस्थायी एवं ठेका श्रमिक वेतन को लेकर संकट में पड़ गए हैं। ऐसी स्थिति में भाटपाड़ा नगरपालिका के 35 वार्डो के लोग नागरिक सेवा से वंचित हैं।

पालिका चेयरमैन सौरभ सिंह का आरोप है कि पिछले तीन माह से विभिन्न कार्यो के लिए राज्य सरकार से दो करोड़ 89 लाख 53 हजार रुपये नहीं मिले हैं। भाजपा सांसद अर्जुन सिंह ने खुद रास्ते पर झाड़ लगाकर तथा कूड़ा उठाकर राज्य सरकार के असहयोगितापूर्ण रवैए का विरोध किया।

अर्जुन सिंह ने इस दिन 10 नंबर वार्ड में सफाई की। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने विकास कार्यो की राशि रोक कर रखा है। इससे नागरिक सेवाओं से लोग वंचित हो रहे हैं। उल्लेखनीय है कि हमले की घटना में भाजपा सांसद ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर साजिश रचने का आरोप लगाया है। इस दिन उन्होंने ममता सरकार पर विकास कार्यो के रुपये को रोक कर रखने का आरोप लगाया।

जानकारी हो कि भाटपाड़ा नपा के सफाई कर्मचारियों की हड़ताल का आज पांचवां दिन है। वेतन नही मिलने के प्रतिवाद में वे हड़ताल कर रहे हैं। हड़ताल की वजह से शहर में जगह जगह कूड़ा कर्कट जम गया है।

मौजूदा परिस्थिति से निपटने के लिए भाजपा सांसद तथा भाटपाड़ा नपा के पूर्व चेयरमैन अर्जुन सिंह खुद ही शहर की सफाई करने उतरे। उन्होंने हाथ में बेल्चा व झाड़ू लेकर कांकीनाड़ा बाजार इलाके में सफाई अभियान चलाया। उनके साथ भाजपा के कई कार्यकर्ताओं ने इलाके की सफाई की।

अर्जुन सिंहह ने आरोप लगाया कि भाटपाड़ा नपा का 70 करोड़ रुपये राज्य सरकार के पास बकाया है। बदले की भावना से तृणमूल सरकार रकम को रोक रखी है। इसके खिलाफ कोर्ट में मामला किया गया है। भाटपाड़ा नगर पालिका पर भारतीय जनता पार्टी का कब्जा है। इसे ममता बनर्जी सह नहीं पा रही है। वे बंगाल की नही बल्कि तृणमूल कांग्रेस पार्टी की मुख्यमंत्री है। कर्मचारियों समेत विकास राशि को रोके जाने से कर्मचारियों का चार माह का वेतन बकाया है। पालिका अपने निजी प्रयास से कर्मचारियों को वेतन देने का प्रयास कर रही है।

प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत अभियान के तहत यह सफाई की गई। उन्होंने कहा कि भले ही मुख्यमंत्री नपा का पैसा रोक रखी हैं लेकिन मोदी हैं तो सब कुछ मुमकिन है। रविवार बैरकपुर जिला भाजपा संगठन की एक सभा को संबोधित करते हुये उन्होंने चुनौती देते हुये कहा कि जब कश्मीर से 370 व 35 ए अनुच्छेद हट सकता है तो राज्य में तृणमूल पार्टी की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की सत्ता से विदाई क्यों नही हो सकती।

जनता ने उनसे मुंह मोड़ लिया है, लेकिन पुलिस व गुंडों के बल पर वह सत्ता में बना रहना चाहती है। उन्हें याद रखना चाहिए कि यदि यह संभव होता तो प्रदेश से वाममोर्चा की विदाई नही होती। खुद पर हुए हमले का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के कहने पर बैरकपुर के पुलिस कमिश्नर मनोज वर्मा ने उनके सिर पर पिस्तौल के बट से वार किया है, लेकिन उन्हें याद रखना चाहिए कि देश में कानून व्यवस्था है। देश के 27 आईपीएस जेल में हैं। पूर्व वित मंत्री पी चिदंबरम को जेल जाना पड़ा है। फिर मनोज वर्मा क्या हैं। उन्हें अपने किये की सजा भोगनी ही पड़ेगी।

सफाई करते सांसद अजरुन सिंह। 

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप