कोलकाता, राज्य ब्यूरो। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने तृणमूल सुप्रीमो पर हमला करते हुए कहा है कि दिल्ली के नेताओं में ममता के प्रति कमजोरी है। उन्हें सब कुछ पता नहीं है। पिछले कुछ दिनों में कांग्रेस के प्रति ममता बनर्जी के रवैए से पार्टी के नेता हैरान हैं। इसके अलावा उन्होंने कहा कि ममता का आरएसएस के साथ नजदीकी रिश्ता है। अधीर चौधरी ने शनिवार को मीडिया से बातचीत में कहा कि उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के कहने पर भवानीपुर में ममता बनर्जी के खिलाफ उम्मीदवार नहीं उतारा। वहीं दूसरी ओर, ममता बनर्जी लगातार कांग्रेस पर हमला कर रही हैं। यह तृणमूल और भाजपा के बीच गुप्त समझौते की ओर इशारा करता है।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने कहा, ममता का आरएसएस के साथ नजदीकी रिश्ता
उन्होंने कहा कि दिल्ली के नेताओं में ममता के प्रति कमजोरी है। उन्हें सब कुछ पता नहीं है। अधीर चौधरी ने कहा कि ममता बनर्जी का राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के साथ नजदीकी रिश्ता है। दीदी ने नितिन गडकरी, राजनाथ सिंह, मोहन भागवत के बारे में कभी कुछ नहीं बोलती हैं। ममता के कार्यकाल में आरएसएस की शाखा बढ़ी है। भवानीपुर व नागपुर के बीच अच्छा तालमेल है।

इस बीच, भाजपा के आइटी सेल के प्रमुख व बंगाल के सह प्रभारी अमित मालवीय ने उनके एक ट्वीट को डिलीट करने के नोटिस पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और उसके समर्थकों को शनिवार को घेरा। उन्होंने ट्वीट करते हुए फिर लिखा 'होबे ना' मतलब 'आपसे नहीं होगा'। दरअसल, अमित मालवीय ने टीएमसी के गोवा में विधानसभा चुनाव लड़ने के एलान पर कटाक्ष करते हुए ट्वीट किया था। इसमें उन्होंने लिखा था कि गोवा में ममता बनर्जी 'बहिरागत' यानी बाहरी हैं। ठीक वैसे ही, जैसे उन्होंने बंगाल में भाजपा को बहिरागत कह कर विभाजनकारी राजनीति की थी। उन्होंने ट्वीट में बंगाल में विधानसभा चुनाव बाद भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमले और दुष्कर्म जैसी घटनाओं का भी जिक्र किया था।  

Edited By: Sachin Kumar Mishra