कोलकाता, राज्य ब्यूरो। नारद स्टिंग ऑपरेशन मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने तृणमूल कांग्रेस के तीन नेताओं को नोटिस भेजकर आय और व्यय का हिसाब मांगा है। सोमवार को राज्य के शहरी विकास मंत्री फिरहाद हकीम, हावड़ा के सांसद प्रसून बंद्योपाध्याय और पूर्व मंत्री मदन मित्रा को नोटिस भेजा गया है। वहीं दूसरी ओर सीबीआइ ने चिटफंड घोटाले में फरार चल रहे एंजेल एग्रीटेक समूह के प्रबंध निदेशक नाज़ुबुल्ला को सोमवार को गिरफ्तार किया है।

केंद्रीय जांच एजेंसी के सूत्रों के अनुसार पहले भी तृणमूल के तीनों नेताओं से आय-व्यय, संपत्ति और बैंक खातों की जानकारी भी मांगी गई थी। लेकिन उन्होंने अभी तक जमा नहीं दिया जिसके बाद फिर नोटिस भेजा गया है। सूत्रों ने कहा कि तृणमूल नेताओं को सभी दस्तावेज अगले एक सप्ताह के भीतर ईडी को सौंपना होगा। ईडी के अधिकारी ने कहा कि इस मामले में लॉकडाउन से पहले और पिछले जुलाई में भी नोटिस भेजा गया था।

चिटफंड घोटाले में एंजेल एग्रीटेक समूह के प्रबंध निदेशक नाज़ुबुल्ला गिरफ्तार

सीबीआइ ने सोमवार को चिटफंड घोटाले में फरार चल रहे एंजेल एग्रीटेक समूह के प्रबंध निदेशक नाज़ुबुल्ला को गिरफ्तार किया है। नाज़ुबुल्ला को सीबीआइ की बारुइपुर स्थित विशेष अदालत में पेश किया गया, जहां से उसे 10 दिनों की सीबीआइ हिरासत में भेज दिया गया। एंजेल एग्रीटेक समूह पर निवेशकों से 454.54 करोड़ रुपये ठगने का मामला चल रहा है। सीबीआइ के प्रवक्ता आरके गौड़ ने कहा कि अभियुक्त पर निवेशकों को धोखा देकर और निवेश किए गए पैसों की हेराफेरी करके भागने का आरोप है।

गौरतलब है कि सीबीआइ बंगाल में सारधा, रोजवैली समेत कई चिटफंड घोटालों की जांच में जुटी हुई है। यह भी उन्हीं में से एक है हालांकि यह सारधा व रोजवैली जितना हाई प्रोफाइल मामला नहीं है। गौरतलब है कि सारधा चिटफंड घोटाले में तृणमूल कांग्रेस के कई मंत्रियों व नेताओं के नाम सामने आ चुके हैं। इनमें राज्य के पूर्व परिवहन मंत्री मदन मित्रा की गिरफ्तारी भी हुई थी, हालांकि वे अभी जमानत पर रिहा हैं। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021