जागरण संवाददाता, कोलकाता : विधाननगर दक्षिण थानांतर्गत सॉल्टलेक में फर्जी दस्तावेज बना कर सरकारी जमीन बेचने के आरोप में पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है। उनके नाम आलोक चंट्टोपाध्याय और संजय गाधिया है। आलोक केएमडीए का पूर्व अधिकारी बताया जा रहा है, जबकि संजय पेशे से प्रमोटर है। दोनों को गुरुवार को विधाननगर अदालत में पेश किया गया। पुलिस ने दोनों की 10 दिनों की पुलिस हिरासत मांगी, लेकिन न्यायाधीश ने सात दिनों की ही कस्टडी मंजूर की। पुलिस दोनों से पूछताछ कर पता लगाने की कोशिश कर रही है कि इस कार्य में और कौन-कौन से लोग शामिल हैं।

जानकारी के मुताबिक सॉल्टलेक के जेसी ब्लॉक में 22 नंबर का एक सरकारी प्लॉट है। साल 2016 में उक्त जमीन के फर्जी दस्तावेज बना कर अपनी जमीन बताते हुए संजय और आलोक ने एक कारोबारी को बेच दिया। जब जमीन के म्युटेशन व अन्य सरकारी प्रक्रिया शुरू हुई, तो नगर विकास विभाग को इस बारे में पता चला। इसके बाद विधाननगर दक्षिण थाने में नगर विकास विभाग की ओर से लिखित शिकायत दर्ज कराई गई। जांच में उतरी पुलिस को आलोक और संजय के फर्जीवाड़े से जुड़े अहम दस्तावेज हाथ लग गए। इसके बाद कार्रवाई करते हुए पुलिस ने इस दिन दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस