मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

-फॉरेंसिक टीम ने जगुआर की जांच की, कार की तकनीकी पहलुओं को जानने के लिए कंपनी से किया संपर्क

-तेज रफ्तार जगुआर से कुचलकर 2 बांग्लादेशी के मौत का मामला

जागरण संवाददाता, कोलकाता : तेज रफ्तार कार दौड़ाकर सड़क किनारे खड़े 2 बांग्लादेशी नागरिकों को कुचलकर मौत के घाट उतारने के मामले में गिरफ्तार बिरयानी कारोबारी के बेटे अर्सलान परवेज को कोर्ट ने 12 दिनों के लिए पुलिस रिमांड पर भेज दिया है। उधर, फॉरेंसिक टीम ने जगुआर कार की जांच की। हादसे के वक्त चालक नशे में था कि नहीं इसकी जांच के लिए उसके खून के नमूने भी लिए गए। कार के अंदर सुरक्षा बंदोबस्त और तकनीकी पहलुओं को जानने के लिए पुलिस ने कंपनी से भी संपर्क किया। बता दें कि शुक्रवार रात करीब दो बजे बिरला तारामंडल की ओर से आ रही तेज रफ्तार जगुआर कार (डब्ल्यूबी-20एयू/9797 ने लाउडन स्ट्रीट और शेक्सपीयर सरणी मोड़ पर मर्सिडीज (डब्ल्यूबी-02एएम/6191) को जोरदार टक्कर मारने के बाद फुटपाथ पर खड़े तीन बांग्लादेशी नागरिकों को रौंद दिया था। हादसे में काजी मोहम्मद मइनुल आलम (36) तथा फरहाना इस्लाम तानिया (28) की मौत हो गई थी। जबकि एक व्यक्ति जख्मी हो गया था। शेक्सपीयर थाना पुलिस ने इस मामले में अर्सलान रेस्टोरेंट व कैटरर्स के मालिक के बेटे अर्सलान परवेज (22) को गिरफ्तार कर लिया था। पुलिस ने आरोपित को रविवार को बैंकशाल अदालत में पेश किया। सरकारी वकील की दलीलें सुनने के बाद कोर्ट ने आरोपित को 29 अगस्त तक के लिए पुलिस रिमांड पर भेज दिया। आरोपित के खिलाफ गैर इरादतन हत्या एवं सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का मामला भी दर्ज किया गया है। उधर, फॉरेंसिक विशेषज्ञों की टीम ने जगुआर कार की जांच की। हादसे के वक्त कार की गति कितनी थी इसके लिए इडीसी की भी जांच की। चालक के नशे में होने का आरोप लगने के बाद पुष्टि के लिए हादसे के करीब 12 घंटे बाद उसके खून के नमूने लेकर जांच को भेजा गया। कोलकाता पुलिस ने जगुआर कार की सुरक्षा एवं तकनीकी पहलुओं को जानने के लिए कंपनी के विशेषज्ञों से भी संपर्क किया है। उम्मीद है कि सोमवार तक कंपनी अपनी रिपोर्ट भेज देगी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप