मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

-तस्करों के कब्जे से 128 मवेशी और 40 संरक्षित तोते बरामद

-सीमा पर गश्त लगा रही बीएसएफ की टीम ने तस्करों को दबोचा

जागरण संवाददाता, कोलकाता : भारत-बांग्लादेश सीमा पर तैनात सीमा सुरक्षा बल बीएसएफ की टीम ने शनिवार देर रात से लेकर रविवार दोपहर तक अलग-अलग क्षेत्रों में 13 मवेशी तस्करों को गिरफ्तार किया है। इनमें से कुछ बाग्लादेशी हैं तो कुछ भारतीय। इनके कब्जे से 128 मवेशी और 40 संरक्षित तोते बरामद किए गए हैं। उत्तर 24 परगना में तो तस्करों को पकड़ने के लिए बीएसएफ की टीम को दलदल में उतरना पड़ा। बचाए गए मवेशियों की अनुमानित कीमत 10 लाख 10 हजार 192 रुपये आंकी गई है। रविवार को बीएसएफ की ओर से जारी विज्ञप्ति के मुताबिक मालदा, मुर्शिदाबाद, उत्तर 24 परगना और नादिया के सीमावर्ती इलाकों से इन मवेशियों को बाग्लादेश ले जाया जा रहा था। गोपनीय सूत्रों से सूचना मिलने के बाद बीएसएफ की टीम ने सबसे पहले बॉर्डर आउटपोस्ट (बीओपी) हरदंगा, सेक्टर बहरमपुर के क्षेत्र में बीएसएफ के जवानों ने तस्करों के समूह की आवाजाही देखी जो मवेशियों को बाग्लादेश ले जाने की फिराक में जुटे हुए थे। बीएसएफ के जवानों ने गंगा नदी से नावों की मदद से 51 मवेशियों को जब्त करने में सफलता हासिल की। इसी तरह से एक दूसरी घटना में बीओपी सोवापुर में बीएसएफ के जवानों ने शनिवार देर रात छह पशु तस्करों को पकड़ा, जिसमें 03 भारतीय नागरिक थे और 03 बाग्लादेशी नागरिक थे। इनके कब्जे से 32 मवेशी जब्त किए थे, जब वे सीमा को पार करने की कोशिश कर रहे थे। इसी तरह की एक घटना में, रविवार सुबह उत्तर 24 परगना के स्वरूप नगर थानांतर्गत 153 बटालियन बीओपी खजुरी के बीएसएफ के जवानों ने 07 तस्करों को पकड़ा और उनके कब्जे से 06 मवेशी जब्त किए। इसके अलावा, अन्य घटनाओं में, बीएसएफ के जवानों ने दक्षिण बंगाल बॉर्डर से 39 मवेशियों को जब्त करने में सफलता पाई। मवेशियों के अलावा शनिवार और रविवार की दरमियानी रात बीओपी दुबलिया में बीएसएफ की टुकड़ी तस्करी के प्रयास को विफल करने में सफल रही, और संरक्षित प्रजाति के 40 तोते जब्त किए। सभी जब्त तोतों को वाइल्ड लाइफ अथॉरिटी को सौंप दिया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप