जागरण न्यूज नेटवर्क, खड़गपुर । चक्रवाती तूफान तितली की ताकत बढ़ने के फलस्वरूप अपेक्षा के अनुरूप ही बुधवार की शाम से पश्चिम मेदिनीपुर जिले के विभिन्न भागों में बूंदाबादी शुरू हो गई। जिसके अगले 24 घंटे तक और तेज होने की संभावना मौसम विज्ञानियों ने व्यक्त की है।

बंगाल की खाड़ी से उठे इस तूफान के बाबत पहले ही सतर्कता जारी कर दी गई थी। एक उम्मीद केवल इस तूफान के समय के साथ कमजोर पड़ने की रही। जो बेकार साबित हुई। अपेक्षा के अनुरूप ही बुधवार की शाम से बूंदाबादी शुरू हो गई। जिसके समय के साथ और तेज होने की संभावना व्यक्त की गई।

मेदिनीपुर स्थित एमसी राणा आकाश पर्यवेक्षण केंद्र के प्रभारी तापस गोस्वामी ने कहा कि तितली के प्रभाव से जिले में अगले 24 घंटे तक भारी बारिश हो सकती है। इसके तापमान में गिरावट आएगी। यदि तूफान का रुख दक्षिण पूर्व रहता है तो इसका व्यापक असर जनजीवन पर पड़ेगा।

दूसरी ओर पूर्व मेदिनीपुर जिले के तटीय क्षेत्रों में तूफान को ले हाइ अलर्ट की स्थिति रही, क्योंकि जिले के सात थाना क्षेत्र समुद्री तट पर स्थित हैं। जहां अक्सर पर्यटकों का जमावड़ा रहता है। वहीं सैकड़ों की संख्या में मछुवारे मछली पकड़ने के लिए कई-कई दिनों तक समुद्र में डेरा डाले रहते हैं। लिहाजा शासन की ओर से उन्हें अगले आदेश तक समुद्र में न जाने की सलाह दी गई है।

दूसरी ओर तूफान से रेल महकमे में भी हाई अलर्ट है। खास तौर से ओड़िशा के खुर्दा व भद्रक संभाग से आने वाली ट्रेनों के तूफान से प्रभावित होने की आशंका है। उनके विलंबित या रद होने की आशंका भी महकमे में व्यक्त की जा रही थी।

परिस्थिति के मद्देनजर विभिन्न स्टेशनों पर लगातार घोषणाएं की जा रही हैं। अगले कुछ घंटों तक परिस्थिति पर पैनी नजर रखी जाएगी।

 कुलदीप तिवारी, वरिष्ठ वाणिज्यिक प्रबंधक, खड़गपुर रेल मंडल

परिस्थितियों पर बारीक नजर रखी जा रही है। जिले में तूफान से निपटने की हर संभव तैयारियां की जा चुकी है। - रश्मि कमल, जिलाधिकारी, पूर्व मेदिनीपुर